बिज़नेस

Bank Privatization : जल्द बिकेंगे यह 2 सरकारी बैंक

देश में Privatization पर सरकार द्वारा ज्यादा प्रभाव देखा जा रहा है जिसका उदाहरण है सरकारी बैंको को प्राइवेटाइज करना

देश में Privatization पर सरकार द्वारा ज्यादा प्रभाव देखा जा रहा है जिसका उदाहरण है सरकारी बैंको को प्राइवेटाइज करना, साथ ही 2022 के बजट में वित्त मंत्री द्वारा इसकी शुरुआत हुई है और दो सरकारी बैंको को प्राइवेटाइज करने की घोषणा भी की है।

बता दें कि बैंको में सितम्बर तक निजीकरण होना शुरु हो जायेगा जिसमे सरकार के बैंकिंग रेगुलेशन एक्ट को संशोधन करके PSB ( Public Sector Banks ) द्वारा Possession पर 20 % को हटाने का सोच रही है। जिनमे 2 सरकारी बैंक चुन लिए गए है और उनको प्राइवेटाइजेशन किया जायेगा।

Privatization करने की तैयारी

रिपोर्ट्स के अनुसार इतने बड़े बदलाव के लिए अभी समय लग सकता है क्योकि कैबिनेट एक दम से इसका निर्णय नहीं ले सकती। लेकिन मानसून सत्र तक शायद कुछ बदलाव देखने को मिल सकते है। मगर सरकार सितम्बर तक एक ना एक सरकारी बैंक का प्राइवेटाइजेशन तो सुनिश्चित करेगी ही।

प्राइवेट होंगे यह बैंक

सरकार की तरफ से इंटर-मिनिस्ट्री परामर्श अपने अंतिम चरण में है जो जल्द ही पूरा होने वाला है । साथ ही लेजिस्लेटिव प्रोसेस होने के बाद Disinvestment पर मंत्रियो का समूह निजीकरण के लिए सारे बैंको को दर्ज करेंगा और उसके बाद फाइनल होगा की किन बैंको का प्राइवेटाइजेशन किया जायेगा।

हालाँकि नीति आयोग (NITI Aayog) ने प्राइवेटाइजेशन के लिए दो PSU बैंक को शॉर्टलिस्ट भी कर लिया है, और Finance Minister निर्मला सीतारमण ने वित्त वर्ष के शुरुआत में बताया भी था की एक बिमा कंपनी को बेच दिया जायेगा।

Aadhya technology
यह भी पढ़े:  World Heritage Day 2022: दिल्ली की इन ऐतिहासिक इमारतों में आज मिलेगी फ्री में एंट्री

Abhishikt Masih

अभिषिक्त मसीह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। इन्होने अपने लेख से सच्ची घटनाओं को लिखकर लोगों को जागरूक किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button