बिज़नेस

Delhi ncr: दिल्ली-NCR क्षेत्र में प्रदूषण की समस्या, GRAP-2 हुआ लागू

GRAP-2 ने बायो-मैस्यूर और बायो-कंपोस्टिंग प्लांट्स के लिए भी नियम बनाए

दिल्ली-NCR क्षेत्र में प्रदूषण की समस्या बढ़ती जा रही है और इसे कम करने के लिए सरकार ने नई उपाय अपनाए हैं। आज से ही दिल्ली-NCR में ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (GRAP-2) लागू हो गया है। यह एक प्रदूषण नियंत्रण योजना है जिसका उद्देश्य प्रदूषण को कम करना है और लोगों को स्वस्थ रखना है।

GRAP-2 के तहत कई चीजों पर प्रतिबंध लगाए गए हैं। पहले तो यह निर्धारित करता है कि किसी भी दिन यदि वायु गुणवत्ता इंडेक्स (AQI) 300 से अधिक होता है, तो उच्च आयाम वायु प्रदूषण के कारण लोगों को अपने घरों में ही रहना होगा। इसके अलावा यदि AQI 500 से अधिक होता है, तो इससे ज्यादा खतरनाक होने के कारण स्कूल, कॉलेज, ऑफिस आदि सभी सार्वजनिक स्थानों को बंद कर दिया जाएगा।

GRAP-2 के अन्य प्रतिबंधों में शाम 6 बजे के बाद ट्रकों का प्रवास निषिद्ध हो जाएगा और यातायात को भी प्रतिबंधित किया जाएगा। इसके साथ ही, इंडस्ट्रियल इकाइयों को भी नियमित रूप से जांच किया जाएगा और उन्हें अपने प्रदूषण नियंत्रण उपकरणों को सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदारी दी जाएगी।

इसके अलावा, GRAP-2 ने बायो-मैस्यूर और बायो-कंपोस्टिंग प्लांट्स के लिए भी नियम बनाए हैं। इन प्लांट्स को नियमित रूप से चेक किया जाएगा और उन्हें अपने कामकाज को सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदारी दी जाएगी।

GRAP-2 के लागू होने के साथ ही, सरकार ने लोगों से अपील की है कि वे प्रदूषण को कम करने के लिए अपना योगदान दें। इसके लिए वे अपनी गाड़ियों को शेयर कर सकते हैं, पब्लिक ट्रांसपोर्ट का उपयोग कर सकते हैं और पेड़-पौधों को बढ़ावा दे सकते हैं। इसके साथ ही, लोगों से यह भी कहा गया है कि वे अपने घरों में पूर्णतः बंद रहें और अपने घरों को प्रदूषण से सुरक्षित बनाएं।

इस प्रदूषण नियंत्रण योजना के लागू होने से उम्मीद है कि दिल्ली-NCR क्षेत्र में प्रदूषण कम होगा और लोगों की सेहत में सुधार आएगा। यह एक महत्वपूर्ण कदम है जो प्रदूषण को कम करने के लिए सरकार द्वारा अपनाया गया है।

Accherishtey
यह भी पढ़ें: दिल्ली के इंद्रप्रस्थ मेट्रो स्टेशन के पास दो गाड़ियों में टक्कर, 2 की मौत, 2 घायल

Related Articles

Back to top button