बिज़नेस

क्या आप जानते है ट्रेनों में क्यों होते है लाल, नीले और हरे डिब्बे? जानें हर रंग का मतलब

ट्रैन अब लगभग देश के हर हिस्से में मौजूद है लेकिन अभी भी ऐसी बहुत सी बात है जो लोगों को खासकर नहीं पता होगी

देश में बहुत से लोग ट्रैन से सफर करते है तभी भारतीय रेल दुनिया का चौथा और एशिया का दूसरा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है। ट्रैन का फायदा तकरीबन सभी के द्वार उठाया जाता है और जैसे – जैसे साल बढ़ रहे है वैसे – वैसे भारतीय रेल में लोगों के लिए सुविधाएं भी बढ़ती जा रही है। इतना ही नहीं रोज ट्रैन में सफर तकरीबन 23 मिलियन लोगों द्वारा किया जाता है।

बता दें कि ट्रैन का सफर सभी लोगों द्वारा किया जाता है जिसमे अमीर और गरीब दोनों के लिए ट्रैन एक अच्छा माध्यम है। ट्रैन अब लगभग देश के हर हिस्से में मौजूद है लेकिन अभी भी ऐसी बहुत सी बात है जो लोगों को खासकर नहीं पता होगी। यह बातें ट्रैन के अलग रंग से जुडी है जहां ट्रैन अलग रंग जैसे लाल, नीले और हरे रंग कि क्यों होती है और उसकी क्या वजह होती है कि वो अलग रंग में बाटी जाती है। आईये जानते है

लाल रंग

red coach

ट्रैन में सफर करने वाले लोग लाल रंग के कोच में तो सफर करते ही है जिसको लिंक हॉफमेन बुश भी कहा जाता है। बता दें कि इन्हे 2000 में जर्मनी से लाया गया था और पहले यह विदेश में बनाया जाता था लेकिन अब यह पंजाब में बनाया जाता है। दूसरो से इसकी तुलना करे तो यह बाकि के कोच के मुकाबले हलके होते हैं और इन्हे एल्युमुनियम से बनाया जाता है। इसमें डिस्क ब्रेक होते है साथ ही यह हलके होने कि वजह से दो सौ किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से दौड़ पाते हैं। इनका इस्तेमाल ज्यादातर राजधानी या शताब्दी जैसी ट्रेनों में किया जाता है, ताकि वो ज्यादा स्पीड से दौड़ पाए।

नीला रंग

blue coach

इस रंग के कोच को इंटीग्रल कोच कहा जाता है। इसको लोहे से बनाया जाता है और इसमें एयर ब्रेक लगे होते है। इसको चेन्नई कि फैक्ट्री में बनाया जाता है और इसको ज्यादातर मेल एक्सप्रेस या इंटरसिटी में यूज किया जाता है।

हरा रंग

green coach

इस कोच का इस्तेमाल गरीब रथ के लिए किया जाता है और इसी के साथ भूरे रंग के भी डिब्बे होते है जिन्हें मीटर गेट ट्रेन में यूज किया जाता है। साथ ही हलके रंग के कोच का इस्तेमाल नैरो गेज ट्रेन में किया जाता है, हालाँकि भारत में अब लगभग नैरोगेज ट्रेनों का हलके रंग के कोच का इस्तेमाल नैरो गेज ट्रेन में किया जाता है लेकिन अब भारत में लगभग नैरोगेज ट्रेनों का परिचालन बंद कर दिया गया है।

Hair Crown Salon
यह भी पढ़े: अब कोई भी गाड़ी ट्रैफिक पुलिस द्वारा नहीं रोकी जाएगी, जारी हुए नए आदेश

Abhishikt Masih

अभिषिक्त मसीह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। इन्होने अपने लेख से सच्ची घटनाओं को लिखकर लोगों को जागरूक किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button