बिज़नेस

Ethanol production: भारतीय सरकार ने गन्ने के जूस से शुगर सिरप का उत्पादन करके एथेनॉल बनाने पर लगाई रोक

शुगर की कमी के कारण भारत में शुगर की कीमतें पहले से ही बढ़ चुकी हैं।

गन्ने के जूस से शुगर सिरप का उत्पादन एक महत्वपूर्ण व्यावसायिक क्षेत्र है और इसका उपयोग भोजन उद्योग में व्यापक रूप से होता है। इसके अलावा, शुगर सिरप का उपयोग शराब उद्योग में भी होता है, जहां इसे एथेनॉल के रूप में उपयोग किया जाता है। हाल ही में, भारतीय सरकार ने गन्ने के जूस से शुगर सिरप का उत्पादन करके एथेनॉल बनाने पर रोक लगाई है। इसका मुख्य कारण यह है कि शुगर सिरप के उत्पादन से शुगर की कीमतों पर नकेल कसने के लिए सरकार ने यह फैसला लिया है।

शुगर सिरप से एथेनॉल बनाने की प्रक्रिया में, गन्ने के जूस को फर्मेंटेशन के माध्यम से एथेनॉल में परिवर्तित किया जाता है। इस प्रक्रिया में, शुगर सिरप का उपयोग होता है जो कि गन्ने के जूस से प्राप्त किया जाता है। इस प्रक्रिया से एथेनॉल का उत्पादन होता है जो कि शराब उद्योग में उपयोग के लिए होता है।

सरकार ने इस निर्णय को लेते समय शुगर की कीमतों पर नकेल कसने के लिए यह देखा है कि शुगर सिरप के उत्पादन से शुगर की कीमतों में गिरावट आ सकती है, जिससे किसानों और शुगर उद्योग को नुकसान हो सकता है। इसके अलावा, शुगर की कमी के कारण भारत में शुगर की कीमतें पहले से ही बढ़ चुकी हैं।

इस निर्णय के परिणामस्वरूप, शुगर सिरप से एथेनॉल बनाने की प्रक्रिया पर सरकार ने रोक लगाई है। इससे शुगर की कीमतों पर नकेल कसने के लिए एक प्रयास किया गया है।

इस निर्णय का प्रभाव शुगर उद्योग और शराब उद्योग पर होगा। इससे शुगर की कीमतों पर सरकारी नियंत्रण बना रहेगा और शराब उद्योग को भी प्रभावित करेगा। इससे यह साबित होता है कि सरकार ने शुगर की कीमतों पर नकेल कसने के लिए उचित कदम उठाया है।

Accherishtey
यह भी पढ़ें: दिल्ली के इंद्रप्रस्थ मेट्रो स्टेशन के पास दो गाड़ियों में टक्कर, 2 की मौत, 2 घायल

Related Articles

Back to top button