बिज़नेस

143 जरूरी चीज़ो के दाम की बढ़ोतरी पर GST काउंसिल की होगी बैठक, राज्यों से मांगी राय

सूचना अनूसार सरकार द्वारा रेट्स में बदलाव किए जा सकते है जिनमे से 143 वस्तुओं सामने आती है और इसके तहत राज्यों से विचार भी मांगे गए है

GST ( Goods and Services टैक्स ) को लेकर अगले महीने बैठक होने वाली है जिसको बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। सूचना अनूसार सरकार द्वारा रेट्स में बदलाव किए जा सकते है जिनमे से 143 वस्तुओं सामने आती है और इसके तहत राज्यों से विचार भी मांगे गए है। इसमें बदलाव का मकसद हो सकता है की सरकार को रेवेन्यू जेनरेट करने में मदद मिलेगी और अन्य राज्यों को मुआवजे के लिए केंद्र पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा ।

ये वस्तुएं 18% टैक्स स्लैब में हैं

रिपोर्ट्स की माने तो जिन 143 वस्तुओ की GST में बदलाव की बात कर रहे है उनके दरें अभी 18% टैक्स स्लैब में आते हैं। लेकिन बैठक के बाद अब 18% से बढ़कर 28% टैक्स स्लैब में बदल सकता है ।

इन वस्तुओं के बढ़ सकते हैं दाम

सूत्रों के मुताबिक, जिन वस्तुओं की जीएसटी दरें बढ़ाई जा सकती हैं उनमें पापड़, गुड़, पावर बैंक, घड़ियां, सूटकेस, हैंडबैग, परफ्यूम, कलर टीवी सेट (32 इंच से कम), चॉकलेट, च्युइंगम, अखरोट, कस्टर्ड पाउडर, नॉन एल्कोहोलिक बेवरेज, सिरेमिक सिंक वॉश बेसिन, काले चश्मे, चश्मे के लिए फ्रेम और चमड़े के अपैरल और कपड़ों के सामान शामिल हैं। साथ ही पापड़ और गुड़ जैसी वस्तुओं पर सिर्फ 5% ही GST बढ़ सकता है लेकिन चमड़े के अपैरल और सहायक उपकरण, कलाई घड़ी, रेज़र, परफ्यूम, प्री-शेव/आफ्टर-शेव की तैयारी, डेंटल फ्लॉस, चॉकलेट, वफ़ल, कोको पाउडर, कॉफी के अर्क और कॉन्संट्रेट, नॉन एल्कोहोलिक बेवरेज, हैंडबैग/शॉपिंग बैग, सिरेमिक सिंक, वॉश बेसिन, प्लाईवुड, दरवाजे, खिड़कियां, बिजली के उपकरण (स्विच, सॉकेट आदि) की निर्माण वस्तुओं पर 18% से बढ़कर 28% जाने की संभावना है।

हालाँकि दूसरी तरफ पीटीआई के रिपोर्ट का कहना है कि दूसरे राज्यों से कोई भी विचार नहीं माँगा है जिसके चलते वो निर्णय ले सके। साथ ही यह भी कहना है कि 28% कि GST स्लैब में ट्रांफर करने कि भी कोई बात सामने नहीं आयी है। इन सूत्रों का मानना है कि जीएसटी रेट पर विचार कर रहे मंत्रियों के पैनल को अभी अपनी रिपोर्ट जीएसटी परिषद को सौंपनी है और सिर्फ 5% के टैक्स स्लैब को बढ़ाकर 8% तक ही कर सकते है और जिन पर अभी छूट दी जा रही थी उन पर 3% GST लग सकती है।

पहले भी किए गए हैं बदलाव

GST के चलते बहुत से बदलाव पहले भी किये गए है जहां बहुत सी वस्तुओ के दरों को बढ़ाया गया है। जैसे नवंबर 2017 में गुवाहाटी में हुई बैठक में परफ्यूम, चमड़े के अपैरल और सहायक उपकरण, चॉकलेट, कोको पाउडर, ब्यूटी या मेकअप के सामान, आतिशबाजी, प्लास्टिक के फर्श कवरिंग, लैंप, ध्वनि रिकॉर्डिंग उपकरण और बख्तरबंद टैंक जैसी वस्तुओं की दरें कम कर दी गईं थी और दिसंबर 2018 में रंगीन टीवी सेट और मॉनिटर (32 इंच से नीचे), डिजिटल और वीडियो कैमरा रिकॉर्डर, पावर बैंक जैसी वस्तुओं के लिए जीएसटी दरों को कम किया गया था और अब इसे बढ़ाने का प्रस्ताव है।

Hair Crown Salon
ये भी पढ़े:  Encroachment In Delhi: दिल्ली की इन सड़कों पर जहां निकलते थे ट्रक, अब बाइक चलाना भी मुश्किल

Abhishikt Masih

अभिषिक्त मसीह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। इन्होने अपने लेख से सच्ची घटनाओं को लिखकर लोगों को जागरूक किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button