देशबिज़नेस

UPI से पेमेंट हो गयी किसी दूसरे अकाउंट में? तो घबराइए नहीं ऐसे कराए 48 घंटे में पैसे रिफंड

ऐसे में RBI की नई गाइडलाइन के अनुसार, अगर आप गलती से किसी और के अकाउंट में पैसे दाल देते हो तो 48 घंटे के भीतर पैसे रिफंड ले सकते हैं

देश में तकरीबन सभी लोग अब UPI से पेमेंट का इस्तेमाल करते है जिसके चलते कभी – कभी लोगों से गलत पेमेंट हो जाती है ऐसे में पैसे खोने का डर हो जाता है। लेकिन अब ऐसी तरकीब सामने आ गयी है जिससे आपको 48 घंटे के भीतर पैसे रिफंड मिल सकते हैं। जानिए कैसे

बता दें कि अगर आप यूपीआई और नेट बैंकिंग करते समय गलती से अगर किसी दुसरे व्यक्ति के अकाउंट में पैसे चले जाएं तो इसके लिए क्या करना चाहिए। ऐसे में RBI की नई गाइडलाइन के अनुसार, अगर आप गलती से किसी और के अकाउंट में पैसे दाल देते हो तो 48 घंटे के भीतर पैसे रिफंड ले सकते हैं।

ये ऐसे हो सकता है कि UPI और नेट बैंकिंग करने के बाद स्मार्टफोन पर प्राप्त मैसेज को कभी भी डिलीट न करें क्योकि इस मैसेज में एक PPBL नंबर होता है और इसी से आपके पैसे रिफंड लेने के लिए आपको इस नंबर कि जरूरत पड़ सकती है।

ऐसे करे पैसे रिफंड

रिपोर्ट्स द्वारा बताया गया है कि पैसे रिफंड करने के लिए RBI कि गाइडलाइन के माने तो वह आपके पैसे को 48 घंटे के भीतर रिफंड करते है। साथ ही अगर बैंक पैसे वापस दिलवाने में मदद नहीं करें तो ऐसे में ग्राहक bankingombudsman.rbi.org.in पर शिकायत कर सकते हैं।

ऐसे में आपके पास बहुत से विकल्प होंगे जिसके चलते आप पैसे निकलवा सकते है जिसमे पहला है की गलती से गलत खाते में पैसे चले जाने के बाद सबसे पहले अपने बैंक में कॉल कर सारी जानकारी के साथ PPBL नंबर दर्ज करवाएं उसके बाद इसके बाद बैंक में जाएं और वहां अपनी शिकायत दर्ज करें। ये सब होने के बाद ब्रांच मैनेजर के नाम एक पत्र लिखें और इस पत्र में वह अकाउंट नंबर लिखे जिसमें पैसे गए हैं और भुलाइये नहीं कि इसमें उस अकाउंट नंबर की भी जानकारी दें, जिसमें पैसे भेजने चाहते हों जैसे Transaction reference number, date of transaction, amount, और IFSC code लिखना बहुत जरूरी है।

Aadhya technology

यह भी पढ़े: दिल्ली से शिमला जाना हुआ और भी आसान, आज से शुरू हुई पहली फ्लाइट

Abhishikt Masih

अभिषिक्त मसीह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। इन्होने अपने लेख से सच्ची घटनाओं को लिखकर लोगों को जागरूक किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button