बिज़नेस

Rooh Afza: रूह आफजा के शौकीनों के लिए खबर, अदालत ने सुनाया ये फैसला

अगर आपको भी 'रूह आफजा' पसंद करते है तो आपके लिए बहुत अच्छी खबर है आपको बता दें कि पिछले कुछ दशक से भारतियों की पसंद बना हुआ है

अगर आपको भी ‘रूह आफजा’ पसंद करते है तो आपके लिए बहुत अच्छी खबर है आपको बता दें कि पिछले कुछ दशक से भारतियों की पसंद बना हुआ है और आज तक बुजुर्गों और युवाओं में इसका क्रेज है जैसा की आपको पता है कि पिछले दिनों मामला सामने आने के बाद अब दिल्ली हाई कोर्ट ने ‘शरबत दिल आफजा’ की प्रोडक्‍शन और बिक्री पर रोक लगा दी गई है. अदालत ने कहा की यह रोक तब तक जारी रहेगी जब तक ‘रूह आफजा’ तैयार करने वाला हमदर्द दवाखाना की याचिका का निपटारा नहीं हो जाता।

जानकारी के मुताबिक हमदर्द की तरफ से दायर याचिका में ट्रेडमार्क के कथित उलंघन का आरोप लगाया है बता दें कि अमित महाजन और विभू बाखरू की पीठ ने कहाँ कि ‘रूह आफजा’ एक शताब्दी से भी ज्यादा समय से हमदर्द की पहचान बना हुआ है और इससे अच्छी खाक कमाई होती है।

बता दें कि हमदर्द ने एकल न्यायाधीश की पीठ के फैसले और सदर लैबोरेटरीज के ख‍िलाफ अपील दायर की थी. आदेश में कहाँ गया कि व्यक्ति को ‘दिल आफजा’ के लेबल का देखकर ‘रूह आफजा’ की याद आएगी क्योकि इसका अंग्रेजी में अनुवाद करने पर ‘रूह’ और ‘दिल’ के अर्थ का संयोजन के तौर पर इस्तेमाल होता है.’और अदालत ने यह भी कहा कि शरबत का रंग और बोतल एक जैसी ही है।

अदालत के इस फैसले के बाद अगर दिल अफजा की बिक्री मार्किट में नहीं होगी तो रूह अफजा के शौकीन खाली रूह अफजा ही खरीद पाएंगे। अदालत के मुताबिक याचिका के निपटारे तक दिल आफजा शरबत और पेय पदार्थों का बनाने और बिक्री पर रोक रहेगी।

Accherishtey

ये भी पढ़े: सड़क हादसे में घायल तड़पते रहे, लेकिन सोते रहे हॉस्पिटल कर्मचारी, फिर हुआ ये

Jagjeet Singh

जगजीत सिंह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे हैं। इन्होंने टेक्निकल, विश्व और एजुकेशन से सम्बंधित लेखो को अपने लेखन में प्रकाशित किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button