बिज़नेस

Share market: शेयर बाजार में हाहाकार, निवेशकों के 7.77 लाख करोड़ डूबे

सेंसेक्स ने अपने नवीनतम रिकॉर्ड को तोड़ते हुए 826 अंकों की गिरावट की है।

शेयर बाजार में एक भयानक दिन देखने के बाद, सेंसेक्स ने अपने नवीनतम रिकॉर्ड को तोड़ते हुए 826 अंकों की गिरावट की है। यह गिरावट शेयर बाजार के इतिहास में सबसे बड़ी गिरावटों में से एक है। इस गिरावट के कारण, निवेशकों के लिए बड़ी हानि हुई है, और उनके नुकसान का आंकड़ा 7.77 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया है।

इस गिरावट के पीछे कई कारण हैं, जिनमें सबसे मुख्य हैं विदेशी निवेशकों की बिकवाली। विदेशी निवेशकों ने शेयर बाजार से अपने निवेशों को निकाल लिया है, जिसके कारण बाजार में भारी गिरावट आई है। इसके अलावा, आर्थिक संकट के कारण भी बाजार में अस्थिरता बढ़ी है। वित्तीय वर्ष 2022-23 में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि की उम्मीदाओं के खिलाफ, आर्थिक संकट के कारण बाजार में निवेशकों की आत्मविश्वास में कमी आई है।

इस गिरावट के चलते, बाजार में कई बड़ी कंपनियों के शेयरों की कीमतों में भी गिरावट आई है। बैंक, फाइनेंस, और ऑटोमोबाइल सेक्टर में खासकर गिरावट देखी गई है। इसके साथ ही, निवेशकों के लिए बड़ी चिंता का कारण यह भी है कि इस गिरावट के बाद बाजार में कितना समय लगेगा ताकि वह पुनः अपने पहले स्तर पर पहुंच सके।

इस गिरावट के बावजूद, विशेषज्ञों का मानना है कि शेयर बाजार में लंबी अवधि में निवेश करने के लिए अच्छा मौका है। वे यह दावा करते हैं कि अगले कुछ महीनों में बाजार में सुधार आ सकता है और निवेशकों को अच्छा मुनाफा दे सकता है। इसलिए, निवेशकों को धैर्य रखने और बाजार के विपरीत चलने के बावजूद निवेश करने की सलाह दी जा रही है।

इस तरह, शेयर बाजार में हाहाकार और सेंसेक्स की 826 अंकों की गिरावट ने निवेशकों को बड़ी हानि पहुंचाई है। इसके चलते, बाजार में अस्थिरता बढ़ी है और निवेशकों की आत्मविश्वास में कमी आई है। हालांकि, विशेषज्ञों का मानना है कि इस गिरावट का उपयोग करके निवेशकों को लंबी अवधि में निवेश करने का अच्छा मौका मिल सकता है।

Accherishtey
यह भी पढ़ें: दिल्ली के इंद्रप्रस्थ मेट्रो स्टेशन के पास दो गाड़ियों में टक्कर, 2 की मौत, 2 घायल

Related Articles

Back to top button