बिज़नेसविश्व

Sri Lanka Crisis: आर्थिक संकट से जूझ रहे श्रीलंका में 500 रुपए किलो बिक रहे है चावल

पड़ोसी देश श्रीलंका पिछले कुछ समय से गंभीर संकटों का सामना कर रहा है बता दें कि (Sri Lankan Rupees) श्रीलंकन रूपीस की वैल्यू डॉलर के मुकाबले लगभग आधी हो चुकी है

पड़ोसी देश श्रीलंका पिछले कुछ समय से गंभीर संकटों का सामना कर रहा है बता दें कि (Sri Lankan Rupees) श्रीलंकन रूपीस की वैल्यू डॉलर के मुकाबले लगभग आधी हो चुकी है जिस वजह से रोजमर्रा में इस्तेमाल होने वाली चीजों के दाम आसमान छू रहे है.

बता दें कि डीजल, पेट्रोल और गैस खरीदने के लिए लम्बी कतारे लग रही है और हालात इतने बुरे हो चुके है कि चीनी की कीमत 290 रुपए किलो तो चावल की कीमत 500 रुपए किलो हो चुकी है इस वक़्त श्रीलंका में महंगाई की दर 17 फीसदी को भी पर कर चुकी है जिस वजह से श्रीलंका के सामने गंभीर संकट उत्पन हो गया है.

अभी इस देश की स्तिथि ऐसी है कि 1 रुपए लिए लोगों को 100 रुपए देने पड़ रहे है साथ ही दूध की कीमत भी आसमान को छू रही है जानकारी के मुताबिक अभी श्रीलंका में ब्रेड के पैकेट की कीमत 150 रुपए हो गई है और दूध के पाउडर की कीमत की बात करे तो वो 1,975 रुपए किलो हो गया है इसी के साथ श्रीलंका में 7 से 10 घंटे तक बिजली कौटती की जा रही है

इसके अलावा एलपीजी सिलिंडर की कीमत 4,119 रुपए है इसी के साथ पेट्रोल 254 रुपए और डीजल 176 रुपए लीटर बिक रहा है श्रीलंकाई रुपए की वैल्यू इस कदर कम हुई है कि 1 डॉलर के मुकाबले यह 201 से भी टूटकर 318 श्रीलंकाई रुपए पर आ चुकी है बता दें कि श्रीलंका का (Forex Reserve) विदेशी मुद्रा भंडार ख़तम होने की कगार पर पहुँच चूका है.

करीब 3 साल पहले श्रीलंका के पास 7.5 बिलियन डॉलर की विदेशी मुद्रा का भंडार था लेकिन जब वहां नई सरकार का गठन हुआ तब इसमें गिरावट आई और यह 2.8 बिलियन डॉलर तक पहुँच गया. जानकारी के मुताबिक अभी श्रीलंका पर 51 अरब डॉलर का कर्ज है आर्थिक संकटों से घिरे इस छोटे देश के ऊपर इस भारी-भरकम विदेशी कर्ज का ब्याज व किस्त चुकाने का भी बोझ है, जो हालात को और बिगाड़ रहे हैं.

Madhavgarh Farms

ये भी पढ़े: Crime News: पत्नी को ‘टमाटर’ कहने पर पति ने 56 साल के शख्स की हत्या

Jagjeet Singh

जगजीत सिंह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे हैं। इन्होंने टेक्निकल, विश्व और एजुकेशन से सम्बंधित लेखो को अपने लेखन में प्रकाशित किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button