कोरोना वायरसदिल्ली

दिल्ली में तीसरी लहर का खतरा बरक़रार, 80 फीसदी नमूनों में पाया गया Delta Variant

दिल्ली सरकार द्वारा पिछले तीन महीने में Genome Sequencing के लिए भेजे गए नमूनों में कोरोना का Delta Variant डोमिनेंट पाया गया है।

दिल्ली सरकार द्वारा पिछले तीन महीने में Genome Sequencing के लिए भेजे गए नमूनों में कोरोना का Delta Variant डोमिनेंट पाया गया है। दिल्ली सरकार के ज्यादातर आंकड़ों के अनुसार पिछले तीन महीनों में Genome Sequencing के लिए भेजे गए 80 फीसदी नमूनों में Delta Variant मिला है। राजधानी के लिए कोविड प्रबंधन नीतियां तैयार करने वाला दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने एक बैठक में स्वास्थ्य विभाग के साथ साझा किया कि जुलाई में दिल्ली में Genome Sequencing के लिए भेजे गए 83.3 फीसदी नमूनों में Delta Variant का पता चला है।

साथ ही मई और जून में 81.7 फीसदी और 88.6 फीसदी नमूनों में Variant पाया गया था और अप्रैल में 53.9 फीसदी सैंपल में Delta Variant मिला था। डेटा से यह भी पता चला है कि अब तक राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र में दिल्ली के 5,752 नमूनों में से 1,689 में Delta संस्करण पाया गया। 947 नमूनों में Alpha संस्करण (बी.1.1.7) का पता चला है। 

Aadhya technology

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने Alpha और Delta दोनों Variant को चिंताजनक के रूप में वर्गीकृत किया है। Delta Variant की पहचान भारत में दिसंबर 2020 में की गई थी और बाद में 95 से अधिक देशों में इसका पता चला है। कोरोना की दूसरी लहर में Delta Variant प्रमुख वजह रहा, जिसने देश में लाखों लोगों को संक्रमित किया और हजारों लोगों की जान ली। वहीं Alpha Variant को पहली बार ब्रिटेन में पिछले साल खोजा गया था।

ये भी पढ़े: कोरोना ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान लागू करने वाला पहला शहर बना दिल्ली

 

Aanchal Mittal

आँचल तेज़ तर्रार न्यूज़ में रिपोर्टर व कंटेंट राइटर है। इन्होने दिल्ली के सोशल व प्रमुख घटनाओ पर जाकर रिपोर्टिंग की है व अपनी कवरेज में शामिल किया है। आम आदमी की समस्याओ को इन्होने अपने सवालो द्वारा पूछताछ करके चैनल तक पहुँचाया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button