कोरोना वायरस

दिल्ली की शराब नीति केस: अरविंद केजरीवाल को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को शराब नीति से जुड़े भ्रष्टाचार मामले में 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। राउज़ एवेन्यू कोर्ट ने CBI की मांग पर यह फैसला सुनाया।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को शराब नीति से जुड़े भ्रष्टाचार मामले में 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। राउज़ एवेन्यू कोर्ट ने CBI की मांग पर यह फैसला सुनाया।

क्या है मामला?

दिल्ली की शराब नीति को लेकर CBI ने केजरीवाल के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं। आरोप है कि इस नीति से सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचा और निजी कंपनियों को फायदा हुआ।

### CBI की दलील

CBI ने कोर्ट में दावा किया कि केजरीवाल ने शराब नीति में बदलाव कर भ्रष्टाचार किया और इसके पीछे गहरी साजिश थी। CBI ने कहा कि जांच के लिए केजरीवाल की न्यायिक हिरासत जरूरी है।

केजरीवाल का बचाव

केजरीवाल ने इन आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए कहा कि यह राजनीतिक प्रतिशोध है। उनके वकील ने कोर्ट में कहा कि केजरीवाल ने कोई गलत काम नहीं किया और ये आरोप उन्हें फंसाने की कोशिश हैं।

न्यायिक हिरासत का फैसला

कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद केजरीवाल को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। कोर्ट ने कहा कि इस मामले में जांच को प्रभावित होने से बचाने के लिए यह कदम उठाना जरूरी है।

राजनीतिक प्रतिक्रिया

इस फैसले के बाद दिल्ली की राजनीति गरमा गई है। आम आदमी पार्टी के समर्थकों ने कोर्ट के बाहर प्रदर्शन किया और इसे अन्याय करार दिया। विपक्षी दलों ने इसे भ्रष्टाचार के खिलाफ सही कदम बताया।

अब यह देखना होगा कि इस मामले में आगे क्या होता है। केजरीवाल की न्यायिक हिरासत के बाद CBI को अपनी जांच पूरी करनी होगी और कोर्ट में पुख्ता सबूत पेश करने होंगे।

इस मामले का असर दिल्ली की राजनीति और आम आदमी पार्टी की छवि पर भी पड़ेगा। आने वाले दिनों में यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या केजरीवाल अपनी बेगुनाही साबित कर पाते हैं या नहीं।

Related Articles

Back to top button