अपराधदिल्लीराजनीति

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में CM केजरीवाल की न्यायिक हिरासत 3 जुलाई तक बढ़ी

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में 3 जुलाई तक जेल में ही रहना होगा। बुधवार को दिल्ली की एक अदालत ने उनकी न्यायिक हिरासत की अवधि बढ़ा दी है। केजरीवाल को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए अदालत में पेश किया गया था, जहां प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने उनकी हिरासत बढ़ाने की याचिका दी।

नई दिल्ली – दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में 3 जुलाई तक जेल में ही रहना होगा। बुधवार को दिल्ली की एक अदालत ने उनकी न्यायिक हिरासत की अवधि बढ़ा दी है। केजरीवाल को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए अदालत में पेश किया गया था, जहां प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने उनकी हिरासत बढ़ाने की याचिका दी।

ईडी की दलीलें
ईडी के वकीलों ने अदालत को बताया कि उनके पास केजरीवाल के खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं और उन्हें हिरासत में रखने की आवश्यकता है ताकि मामले की जांच पूरी हो सके। केजरीवाल के वकीलों ने इस पर विरोध जताते हुए कहा कि उनके मुवक्किल निर्दोष हैं और उन्हें गलत तरीके से फंसाया गया है।

भाजपा का विरोध प्रदर्शन
दिल्ली में भाजपा ने केजरीवाल सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। भाजपा नेताओं ने दिल्ली में पानी की किल्लत और अन्य मुद्दों पर सरकार की नाकामी पर निशाना साधा। भाजपा के सदस्यों ने सड़कों पर उतरकर सरकार का विरोध जताया और नारेबाजी की।

आम आदमी पार्टी की प्रतिक्रिया
आम आदमी पार्टी ने इस मामले को राजनीति से प्रेरित बताया और कहा कि केजरीवाल को जानबूझकर फंसाया जा रहा है। पार्टी ने कहा कि वह कानूनी लड़ाई लड़ेंगी और सत्य की जीत होगी।

राजनीतिक माहौल पर असर
इस घटना से दिल्ली का राजनीतिक माहौल गरमा गया है। जहां एक ओर भाजपा ने केजरीवाल सरकार को कठघरे में खड़ा किया है, वहीं दूसरी ओर आम आदमी पार्टी ने इसे साजिश करार दिया है। आगामी चुनावों पर भी इस घटना का असर पड़ सकता है, क्योंकि दोनों पार्टियां इस मुद्दे को लेकर आमने-सामने हैं।

अरविंद केजरीवाल की न्यायिक हिरासत 3 जुलाई तक बढ़ा दी गई है, जिससे उनके समर्थकों में निराशा है। वहीं, भाजपा ने इस मौके का फायदा उठाते हुए सरकार की नाकामियों को उजागर किया है। अब देखना होगा कि इस मामले का आगामी घटनाक्रम क्या होता है और इसके राजनीतिक नतीजे क्या होंगे।

Related Articles

Back to top button