दिल्लीसाइबर क्राइम

आप का भी बैंक अकाउंट हो सकता है खाली, बैंकों ने ग्राहकों को जारी किया अलर्ट

आप का भी बैंक अकाउंट खाली हो सकता है 17 बैंकों ने ग्राहकों को अलर्ट जारी किये है एक खतरनाक वायरस बैंक अकाउंट पूरी तरह से खाली कर रहा है

मैलवेयर (Drinik banking malware) ये लोगों को परमिशन देने के लिए प्रेरित करता है, और उसके बाद एक्सेसिबिलिटी सर्विस को सक्षम करने का अनुरोध भी करता है। और उसके बाद ये Google Play प्रोटेक्ट को पूरी तरह निष्क्रिय कर देता है और साथ ही ऑटो जेस्चर को डिसेबल करना और की प्रेस को कैप्चर करना शुरू भी कर देता है। रिफंड बटन पर क्लिक करने से फिशिंग पेज खुल जाता है, जो सभी निजी जानकारियाँ चुरा लेता है।

अगर आप भी मोबाइल बैंकिंग (Mobile Banking) का इस्तेमाल करते हैं तो आप भी सावधान हो जाएं। आप का भी बैंक अकाउंट खाली हो सकता है। बता दें एसबीआई (SBI) सहित 17 बैंकों ने अपने ग्राहकों को अलर्ट जारी किये है। दरअसल एक खतरनाक वायरस लोगों का बैंक अकाउंट पूरी तरह से खाली कर रहा है। और लोगों को पता भी नहीं चलता और उनके खाते से पुरे पैसे निकाल लिए जाते हैं।

सरकार ने इससे पहले भी एंड्रॉइड यूजर्स को इस मैलवेयर के बारे में चेतावनी जारी दी थी, जो इनकम टैक्स रिफंड जेनरेट करने के नाम पर कई यूजर्स सारी जानकारी चुरा लेता है। बता दें ड्रिनिक मैलवेयर का एक एडवांस वर्जन भी है, जो की एपीके फाइल के साथ एक एसएमएस (SMS) भेजकर यूजर्स को ही टारगेट कर रहा है। और इसमें iAssist नामक एक ऐप भी शामिल है, जो की भारत के इनकम टैक्स (Income Tax) के ऑफिशियल टैक्स मैनेजमेंट डिवाइस का रूप लेता है।

ग्राहकों को टारगेट करता है ड्रिनिक मैलवेयर malware

आप को बता दें ये वायरस एक बार अगर डिवाइस पर इंस्टॉल हो गया तो एपीके फ़ाइल यूजर्स के कॉल लॉग को पढ़ने के साथ-साथ एसएमएस पढ़ने और प्राप्त करने व भेजने की परमिशन मांगेगी। और यह बाहरी संग्रहण को पढ़ने और साथ ही लिखने की भी परमिशन रिक्वेट करता है। अगर एक बार जब कोई यूजर अनुमति दे देता है तो ऐप को यूजर्स को इसके बारे में बिना बताए कुछ काम करने का मौका देता है। और बैंकिंग ट्रोजन के समान, ड्रिनिक एक्सेसिबिलिटी सर्विस पर ही निर्भर करता है।

इसके को लॉन्च करने के बाद, मैलवेयर लोगों को परमिशन देने के लिए प्रेरित भी करता है और इसके बाद एक्सेसिबिलिटी सर्विस को सक्षम करने का अनुरोध करता है। और इसके बाद ये Google Play प्रोटेक्ट को निष्क्रिय कर देता है और उसके बाद ऑटो जेस्चर को डिसेबल करना और साथ ही की प्रेस को कैप्चर करना पूरी तरह से शुरू कर देता है।ये भी संदेह है कि ड्रिनिक मैलवेयर का यह नया वर्जन फिशिंग पेज के बजाय असली आयकर की साइट को खोलता है

जिसके बाद यह आप के स्क्रीन रिकॉर्डिंग के माध्यम से भी सभी डिटेल्स को चुरा लेता है, क्योंकि यूजर्स साइट पर अपने पर्सनल डिटेल दर्ज करते हैं। जानकारी के अनुसार यूजर्स की स्क्रीन पर एक फेक डायलॉग बॉक्स भी खुलता है, जिसमें यूजर्स को रिफंड मिलने की भी बात कही जाती है। रिफंड बटन पर क्लिक करने से फिशिंग पेज खुल जाता है, जो आप की सभी निजी जानकारी चुरा लेता है।

बता दें ये वायरस लॉगिन पेज दिखाने से पहले, मैलवेयर बायोमेट्रिक वेरिफिकेशन के लिए एक स्क्रीन को दिखाता है। और यहां पर जैसे ही कोई अपना पिन डालता है, तो मैलवेयर मीडिया प्रोजेक्शन का उपयोग करके स्क्रीन रिकॉर्ड करके बायोमेट्रिक पिन को चुरा लेता है और साथ ही कीस्ट्रोक्स को भी पकड़ लेता है। उसके बाद चुराए गए विवरण को सी एंड सी सर्वर को भेजे जाते हैं।

Vishalgarh Farms

ये भी पढ़े: मारुति सुजुकी Nexa जल्द लाने वाली है, XL6 CNG और Baleno CNG

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button