दिल्ली एनसीआरदेश

गाजियाबाद रेलवे स्टेशन का बदलने वाला है लुक, आलीशान मॉल की तरह होगी सुविधाएं

अब भारतीय रेलवे देश के कई रेलवे स्टेशनों का लुक बदल रही है और इसको पुनर्विकसित करने के बाद ये किसी बड़े मॉल की तरह नजर आएंगे

दिल्ली NCR में बहुत से निर्माण किये जा रहे है जिसके चलते लोगों को सुविधाएं मिल सके। ऐसे में अब भारतीय रेलवे (Indian Railways) देश के कई रेलवे स्टेशनों का लुक बदल रही है और इसको पुनर्विकसित करने के बाद ये किसी बड़े मॉल की तरह नजर आएंगे। जनइये पूरी खबर

बता दें कि देश में 199 रेलवे स्टेशनों है और इन सभी के पुनर्विकास के प्रस्ताव पर काम चल रहा है। इनमे से कई रेलवे स्टेशनों पर काम भी चालू हो गया है और पुनर्विकसित होने वाले बड़े रेलवे स्टेशनों में नई दिल्ली, अहमदाबाद और छत्रपति शिवाजी टर्मिनस-मुंबई शामिल है।

साथ ही फरीदाबाद रेलवे स्टेशन का लुक बदलने के लिए भी रेलवे काम कर रहा है। लेकिन अभी कि बात करे तो अब रेलवे ने दिल्ले से सटे गाजियाबाद रेलवे स्टेशन की प्रस्तावित डिजाइन जारी किया है और पुनर्विकसित होने के बाद यह रेलवे स्टेशन भी किसी बड़े मॉल की तरह दिखाई देने वाला है। इस बारे में और बताते हुए रेल मंत्रालय ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर गाजियाबाद रेलवे स्टेशन के नए मॉडल की तस्वीरें शेयर की हैं।

आलीशान मॉल की तरह दिखेगा ये रेलवे स्टेशन

रिपोर्ट्स से सामने आया है कि गाजियाबाद रेलवे स्टेशन उत्तर प्रदेश में पड़ता है और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटा हुआ है जिसके चलते भारतीय रेलवे यात्रियों की सुविधा के लिए इस रेलवे स्टेशन को पुनर्विकसित करने जा रही है। साथ ही दवा किया जा रहा है कि इसके पुनर्विकसित होने के बाद यह रेलवे स्टेशन आपको किसी आलीशान मॉल की तरह नजर आएगा।

ये मिलेगी सुविधाएं

ऐसे में पुनर्विकिसत हो रहे इन रेलवे स्टेशनों में यात्रियों के लिए खास सुविधाएं होंगी जहा इन स्टेशनों पर ‘रूफ प्लाजा’ बनाया जाएगा और फूड कोर्ट, छोटे बच्चों के खेलने के लिए छोटी सी जगह, स्थानीय उत्पादों की बिक्री के लिये भी अलग स्थान बनाये जायेंगे। वही सफाई पर खास ध्यान दिया जाएगा तथा दिव्यांगों की सुविधा का पूरा ध्यान रखा जाएगा।

Accherishtey ये भी पढ़े: अब दिल्ली में बड़ा सकेंगे मकान की एक और मंजिल, MCD ने दी मंजू

Abhishikt Masih

अभिषिक्त मसीह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। इन्होने अपने लेख से सच्ची घटनाओं को लिखकर लोगों को जागरूक किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button