दिल्लीदिल्ली एनसीआर

दिल्ली में इन जगहों पर नहीं मिलेगी शराब, दुकानदारों ने लौटाए लाइसेंस

दिल्ली के उपराज्यपाल द्वारा निजी विक्रेताओं के साथ साथ होटल और बार को जारी शराब लाइसेंस की मियाद को एक और महीने बढ़ाने की मंजूरी दे दी गई है।

दिल्ली के उपराज्यपाल विनय सक्सेना द्वारा निजी विक्रेताओं के साथ साथ होटल और बार को जारी शराब लाइसेंस की मियाद को एक और महीने बढ़ाने की मंजूरी दे दी गई है।

ऐसें में मंजूरी देने के बाद से ही राजधानी दिल्ली में मंगलवार को शराब की दुकानें दुबारा खुली। लेकिन दिल्ली के छह ज़ोन में शराब की दुकाने जल्द खुलने की उमीद नहीं है।

दरअसल, इन छह ज़ोनो की दुकानों के लाइसेंस धारण करने वालों ने अपना लाइसेंस लौटा दिया है। जिसके चलते 31 जुलाई के 468 के बदले अब शराब की 343 दुकाने ही खुली रह जाएंगी। 

बहराल, सोमवार को शराब की सभी दुकाने बंद थी। लेकिन मंगलवार को शराब की दुकाने दोबारा खुली। जिसके चलते मंगलवार को खुली शराब की दुकानों में कम भीड़ देखने को मिली।

जिसकी वजह मंगलवार को लोगों का शराब का सेवन ना करना है। साथ ही दिल्ली सरकार के अबकारी विभाग ने सोमवार को ये जारी कर दिया था कि शराब की खुदरा और थोक बिक्री के लिए जारी लाइसेंस की डेट को 31 अगस्त तक बढ़ाया जाता है।

हालांकि आदेश के अनुसार, 1 सितंबर से शराब की नई आबकारी निती समाप्त हो जाएगी और इसकी जगह पुरानी निती वापस लागू होगी।

आपकों बता दे कि, दिल्ली के छह जोन जहा शराब बिक्री के लिए लाइसेंस लौटा दिया गया है। उन इलाकों में आंनद विहार, शकरपुर, झिलमिल, पहाड़गंज, रोहिणी ई, चांदनी चौक, सरिता विहार, नजफगढ़, ग्रेटर  कैलाश और दरियागंज जैसे इलाके शामिल है। 

17 नंवबर को लागू आबकारी निती 2021- 2022 के अनुसार दिल्ली को 32 जोन में बांटा गया था। जिसके अनुसार हर जोन में 27 शराब की दुकाने खोलने की अनुमति दी गई थी। ऐसें में करीब आंठ महीने की लागू इस निती के चलते दिल्ली में करीब 644 शराब की दुकाने खोली जा सकी। 

Madhavgarh Farms

ये भी पढ़े: क्या Zomato के नाम में हो सकता है बदलाव? CEO ने दी जानकारी

Aanchal Mittal

आँचल तेज़ तर्रार न्यूज़ में रिपोर्टर व कंटेंट राइटर है। इन्होने दिल्ली के सोशल व प्रमुख घटनाओ पर जाकर रिपोर्टिंग की है व अपनी कवरेज में शामिल किया है। आम आदमी की समस्याओ को इन्होने अपने सवालो द्वारा पूछताछ करके चैनल तक पहुँचाया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button