दिल्ली

67 साल के बुजुर्ग बनकर कनाडा जा रहा था युवक, एयरपोर्ट पर खुली पोल

देश की राजधानी दिल्ली के IGIA पर केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल ने एक 24 वर्ष के लड़के को पकड़ लिया है। यह व्यक्ति 67 साल के युवक के

देश की राजधानी दिल्ली के IGIA पर केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल ने एक 24 वर्ष के लड़के को पकड़ लिया है। यह व्यक्ति 67 साल के युवक के पासपोर्ट पर कनाडा जाने की तैयारी में था। हालांकि, एयरपोर्ट पर सभी सुरक्षाकर्मियों को उसके ऊपर शक हुआ। जिसके बाद उसे वहां पर रोक लिया गया और जांच में पता लगा कि वह कोई और ही युवक है। उसके ऊपर मानव तस्करी में शामिल होने और फर्जी पहचान बताने के आरोप हैं। सीआईएसएफ के एक अधिकारी के मुताबिक, 18 जून को शाम 5.20 बजे, प्रोफाइलिंग तथा व्यवहार जांच के आधार पर, सभी कर्मचारियों ने टर्मिनल-3 के चेक-इन क्षेत्र में एक यात्री को पकड़ लिया।

अधिकारी ने बताया, “पूछताछ करने पर, उसने अपना नाम रशविंदर सिंह बताया, जो 10 फरवरी, 1957 को पैदा हुआ था और अब उसने बताया कि वह रात 10.50 बजे कनाडा जा रहा है।” हालांकि, उसके पासपोर्ट की जांच करने पर काफी प्रकार की गड़बड़ी मिली। अधिकारी ने बताया, “उसका रूप, आवाज तथा त्वचा की बनावट पासपोर्ट में बताये गयी सभी डिटेल्स से काफी कम आयु का लग रहा था। पास से देखने पर इस बात का पता लगा कि उसने अपने बाल और दाढ़ी सफेद करवा ली थी और बूढ़ा दिखने के लिए चश्मा दाल लिया था।”

संदेह बढ़ने पर चेकिंग पॉइंट पर जांच
जैसे-जैसे उस पर शक बढ़ता गया, उसे जांच के लिए प्रस्थान क्षेत्र में एक चेकिंग पॉइंट पर लेकर गए जाया गया। उसके मोबाइल फोन की जांच के दौरान, 10 जून 2000 को जन्मे गुरु सेवक सिंह के नाम से एक और पासपोर्ट मिली। अधिकारी ने कहा, “आगे की जांच में, यात्री ने मान लिया कि उसका असली नाम गुरु सेवक सिंह है और वह 24 वर्ष का है, जो सहोता के नाम से जारी पासपोर्ट पर जा रहा है।” क्युकी मामला जाली पासपोर्ट और फर्जी शिनाख्त से जुड़ा था, इसलिए यात्री को दिल्ली पुलिस को दे दिया गया।

2019 में में भी ऐसा ही एक मामला सामने आया था, तब एक 32 साल के एक व्यक्ति ने खुद को 81 साल व्यक्ति के रूप में प्रस्तुत किया था। और वह अहमदाबाद का एक इलेक्ट्रीशियन का काम करता था, जो बेहतर नौकरी पाने के लिए अमेरिका जाना चाहता था।

 

 

Related Articles

Back to top button