Encroachment In Delhi: दिल्ली की इन सड़कों पर जहां निकलते थे ट्रक, अब बाइक चलाना भी मुश्किल

एक वक्त था जब दिल्ली की सड़के चौड़ी हुआ करती थी। सड़को पर वाहन की आवाजाही में बिलकुल दिक्कत नहीं होती थी।

एक वक्त था जब दिल्ली की सड़के चौड़ी हुआ करती थी। सड़को पर वाहन की आवाजाही में बिलकुल दिक्कत नहीं होती थी। हालांकि अब वक्त ऐसा आ गया है कि दिल्ली की कई सड़को पर चार पहिया वाहन तो दूर की बात है, दो पहिया भी बड़ी मुश्किल से निकल पाता है। पहले जहांगीरपुरी का इलाका भी ऐसा था। खुली-खुली सड़के, हरे-भरे पार्क जहांगीरपुरी की शान हुआ करते थे।

जहा एक वक्त था जब जहांगीरपुरी इलाके में टाटा 407 तेजी से सड़को पर भागती थी। हालांकि अब यहां दो बाइक एक साथ सड़क पर चलाना मुश्किल हो गया है। स्थानीय बड़े-बुजुर्ग का कहना है कि लोगों के अवैध अतिक्रमण के कारण यहां कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। पहले यहां लोगों ने अपने घरों के आगे वाली सड़को पर चबूतरा बनाया। इसके बाद उस चबूतरे में टॉयलेट और सीढ़ियों का निर्माण कर दिया।

स्थानीय लोगों का मानना है कि बांग्लादेशी मुसलमानों के आने से यहां के मोहले की हालत बतर हो गई है। इसके अलावा हरित पट्टियों पर कब्जा कर इन लोगों ने झुग्गी बना डाली। वही कबाड़ बीनने की आड़ में चोरी जैसी घटना को अंजाम देने लगे।

वर्ष 1976 से 1978 में जहांगीरपुरी 11 ब्लॉक में बना था। इस वक्त सड़के चौड़ी और पार्क हरे-भरे होते थे। लेकिन अब ,ए, जी, एच ब्लाक आदर्श नगर में आते है। जबकि आई, जे, के, बी व सी बादली, वहीं डी, ई ब्लाक बुराड़ी विधानसभा क्षेत्र में आते हैं।

दिल्ली में कई जगह अवैध निर्माण के कारण लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। निर्माण के कारण पैदल यात्रियों को जाने का रास्ता नहीं मिलता। इसी कारण लोग बीच सड़क पर चलते है और एक्सीडेंट का शिकार बन जाते है। वही निगम और पुलिस भी लापरवाही दिखती है।

इसके अलावा अक्सर लोग सड़क पर वाहन खड़े कर जाते है। जिसके कारण जाम लगता है और एक्सीडेंट के केस भी बड़ जाते है। इस मामले में गुरु रविदास मार्ग, ओखला एस्टेट मार्ग, मां आनंदमयी मार्ग, एमबी रोड, अर¨वदो मार्ग, इग्नू रोड, अलकनंदा जाने वाली स्कूल रोड, भीष्म पितामह मार्ग, पंडित त्रिलोकचंद शर्मा मार्ग, बसंत कौर मार्ग, शहीद भरत डोगरा मार्ग सबसे आगे है।

ये भी पढ़े: दिल्ली सरकार का बड़ा ऐलान, बिना ड्राइविंग लाइसेंस के नहीं चला पाएंगे ई-रिक्शा

Exit mobile version