दिल्लीदिल्ली एनसीआर

राजधानी में बाइक टैक्सी की एंट्री! जारी हुई कैब एग्रीगेटर पॉलिसी, LG ने दी मंजूरी

इस इस योजना के चलते एग्रीगेटर के पास कम से कम अब 25 वाहन होने चाहिए इसमें दोपहिया, तीन पहिया और कैब भी शामिल हैं।

राजधानी दिल्ली में बाइक अब टैक्सी नियमों के तहत चल सकेंगी जहां अब लोगों को यह सुविधा इलेक्ट्रिक बाइक के रूप में मिलेगी। बुधवार दिल्ली कैब एग्रीगेटर और डिलीवरी सेवा प्रदाता योजना की भी अधिसूचना जारी कर दी गई है और इस योजना के चलते कैब एग्रीगेटर कंपनियों को अपने चालकों को ट्रेनिंग देना जरूरी होगा। साथ ही यात्रियों से कम रेटिंग मिलने और चालकों के खिलाफ बार-बार शिकायतें भी मिलने पर कंपनियों को कार्रवाई भी करनी होगी।

बता दें कि परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत द्वार आगे बताया गया कि जितने भी एग्रीगेटर होंगे, चाहे वह पैसेंजर ट्रांसपोर्ट, डिलीवरी या ई-कार्मस कि ही सर्विस से जुड़े हैं सभी को इसमें अपने वाहनों के बेड़े को वर्ष 2030 तक पूरी तरह से इलेक्ट्रिक करना होगा और इस योजना को उपराज्यपाल VK सक्सेना द्वारा 24 नंवबर को मंजूरी दी थी।

साथ ही परिवहन मंत्री द्वारा बताया गया है कि यह योजना तीन कैटेगरी में लागू होगी और पहला पैसेंजर ट्रांसपोर्ट जिसमें बाइक, कैब टैक्सी होंगी और दूसरा डिलीवरी सेवा प्रदाता योजना इसमें स्वीगी, जोमैटो आदी डिलीवरी से भी जुड़ी सेवा होगी तीसरा ई-कामर्स फ्लिप कार्ट, अगेजोन आदि के लिए भी यह योजना बसों पर लागू नहीं होगीं।

हालाँकि, इस इस योजना के चलते एग्रीगेटर के पास कम से कम अब 25 वाहन होने चाहिए इसमें दोपहिया, तीन पहिया और कैब भी शामिल हैं। साथ ही अधिसूचना जारी होने के 90 दिन के अंदर ही एग्रीगेटर को लाइसेंस लेना होगा और लाइसेंस की पांच साल की ही वैलेडिटी होगी और इसका वार्षिक भुगतान भी करना होगा।

Accherishtey

ये भी पढ़े: मेट्रो यात्रियों के लिए खुशखबरी! अब लाइन चेंज करने के लिए नहीं चलना पड़ेगा अधिक

Abhishikt Masih

अभिषिक्त मसीह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। इन्होने अपने लेख से सच्ची घटनाओं को लिखकर लोगों को जागरूक किया है।

Related Articles

Back to top button