ट्रेंडिंगदिल्लीदिल्ली एनसीआर

दिल्ली के धौला कुआं से लेकर एयरपोर्ट तक अब और भी सुदंर दिखेंगे नजारे

दिल्ली पीडब्ल्यूडी अब धौला कुआं से इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट के पुनर्विकास और सौंदर्यीकरण के लिए महनत कर रहा है।

सैंपल स्ट्रेच पर सौंदर्यीकरण कार्य को सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद, दिल्ली पीडब्ल्यूडी अब धौला कुआं से इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट तक 8 किलोमीटर लंबे स्ट्रेच के पुनर्विकास और सौंदर्यीकरण के लिए महनत कर रहा है।

जानकारी के अनुसार, पीडब्ल्यूडी ने वेस्ट एंड गेट 1 से 2 तक 500 मीटर के सैंपल स्ट्रेच पर सौंदर्यीकरण का काम शुरू किया था। जिसके चलते, इस पूरी तरह से खिंचाव विकसित किया और अद्वितीय पौधों, सड़कों और होर्टीकल्चर अपडेट के साथ जगह को सजाया।

आपकों बता दे कि यह परियोजना अब भी जारी है, इसलिए चरणबद्ध तरीके से 8 किलोमीटर के हिस्से का विकास किया जा रहा है। वहीं विभाग द्वारा उसी स्ट्रेच को “सौंदर्य रूप से उन्नत” करेगा जो आने-जाने को आसान बना देगा और हवाई अड्डे और गुड़गांव तक जाने वाले राजमार्ग पर धौला कुआं से आईजीआई हवाई अड्डे तक यात्रा करने वाले यात्रियों को एक अच्छा अनुभव देगा।

आपकों बता दे कि अब तक इस जगह पर ट्रैफिक जाम दिखाई देता है लेकिन भीड़भाड़ की कोई बड़ी समस्या नहीं है। लेकिन इस स्ट्रेच की सिमिट्री में कुछ समस्याएं हैं, जिसके चलते वहा ट्रैफिक जाम लगता है। फिलहाल, इसे ठीक किया जाएगा। 

इसके अलावा सड़क को फिर से बनाया जाएगा, मजबूत किया जाएगा, फुटपाथ और ड्रेन लाइन का पुनर्विकास किया जाएगा। साथ ही इस जगह में ट्रैफिक आईलैंडस पर लगभग 7-8 फव्वारे होंगे और दिल्ली आने वाले लोग, अंतरराष्ट्रीय पर्यटक, राजनयिकों और गणमान्य व्यक्तियों को आकर्षित करने के लिए सभी मौसम के मौसमी पौधे सड़क के किनारे लगाए जाएंगे।

पीडब्ल्यूडी ने ट्रैफिक ट्राई-जंक्शन पर संगमरमर की मूर्तियों को लगाने और पूरी जगह पर रंगीन रोशनी और डिजाइनर स्ट्रीट लैंप और स्मार्ट पोल के साथ कला प्रभावों को ठीक करने की योजना बनाई है।

दरअसल, कुछ महीने पहले दिल्ली के उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने खिंचाव का दौरा किया था और कहा था कि यह राजधानी की एक प्रतिष्ठित पहचान के रूप में उभर सकता है।

साथ ही, उपराज्यपाल ने यह भी निर्देश दिया था कि फुटपाथों के रखरखाव और मरम्मत और कचरे को हटाने का काम अलग-अलग नहीं किया जाना चाहिए बल्कि लगातार किया जाना चाहिए।

वहीं उन्होंने यह भी कहा था कि दिल्ली जल बोर्ड को बागवानी उद्देश्यों के लिए सीवेज उपचार संयंत्रों से पर्याप्त पुन: चक्रित पानी सुनिश्चित करना चाहिए।

Madhavgarh Farms

ये भी पढ़े: Delhi News: महिला को पड़ोसी ने पालतू कुत्ते से कटवाया, जानें क्या है वजह

Aanchal Mittal

आँचल तेज़ तर्रार न्यूज़ में रिपोर्टर व कंटेंट राइटर है। इन्होने दिल्ली के सोशल व प्रमुख घटनाओ पर जाकर रिपोर्टिंग की है व अपनी कवरेज में शामिल किया है। आम आदमी की समस्याओ को इन्होने अपने सवालो द्वारा पूछताछ करके चैनल तक पहुँचाया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button