दिल्लीदिल्ली एनसीआर

निर्माण स्थलों पर धूल के स्तर को कम करने के लिए सरकार ने एंटी-डस्ट अभियान शुरू किया

देश में प्रदूषण का दर बढ़ने से सरकार द्वारा नई योजनाए बनाई जा रही है जिसमे अब दिल्ली सरकार ने एक महीने का एंटी-डस्ट अभियान शुरू किया

देश में प्रदूषण का दर सर्दी के बढ़ने से और ज्यादा फैल रहा है और ये लोगों के लिए मुसीबत बन रहा है। जिसके चलते सरकार द्वारा नई योजनाए बनाई जा रही है जिसमे अब दिल्ली सरकार ने एक महीने का एंटी-डस्ट अभियान शुरू किया, जिसके तहत सभी निर्माण स्थलों को धूल के स्तर को नियंत्रण में रखने के लिए 14 नियमों का पालन करना होगा। जानिए पूरी खबर

बता दें कि इस योजना के चलते अगर निर्माण स्थलों पर नियमों का उल्लंघन किया जायेगा तो उन पर 10,000 रुपये से लेकर 5 लाख रुपये तक का जुर्माना लगाया जा सकता है और ये नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के दिशानिर्देशों के अनुसार लगा सकते हैं। वैसे ही NGT के दिशानिर्देशों का बार-बार उल्लंघन करने पर अधिकारी 5 लाख रुपये से अधिक का जुर्माना भी लगा सकते हैं। गंभीर मामलों में अधिकारी निर्माण स्थल को बंद करने का आदेश भी दे सकते हैं।

इतना ही नहीं दिल्ली पर्यावरण विभाग द्वारा 586 टीमों का गठन करने के लिए कई एजेंसियों के साथ सहयोग किया है, जो निर्माण स्थलों की निगरानी करेंगे और जांच करेंगे कि क्या वे एंटी-डस्ट अभियान के तहत सूचीबद्ध मानदंडों का पालन कर रहे हैं।

एंटी स्मॉग गन

ऐसे में धूल प्रदूषण को रोकने के लिए पहले 20,000 वर्ग मीटर में फैले निर्माण स्थल पर एंटी-स्मॉग गन लगाना अनिवार्य था। इस प्रावधान को अब संशोधित किया गया है और अब 5,000 वर्ग मीटर से अधिक क्षेत्र में फैले प्रत्येक स्थल पर एंटी-स्मॉग गन लगानी होगी।

वही 5,000 वर्ग मीटर और 10,000 वर्ग मीटर के बीच के क्षेत्र के साथ एक निर्माण स्थल के लिए एक एंटी-स्मॉग गन की आवश्यकता होती है, 10,000 वर्ग मीटर और 15,000 वर्ग मीटर के बीच में दो एंटी-स्मॉग गन और 15,000 वर्ग मीटर के बीच फैले निर्माण स्थल की आवश्यकता होती है। 20,000 वर्ग मीटर में तीन एंटी स्मॉग गन की जरूरत है।

श्रमिकों के लिए

हालाँकि, श्रमिकों की सुविधा के लिए भी लोडिंग-अनलोडिंग या निर्माण सामग्री और मलबे को ढोने वालों को डस्ट मास्क उपलब्ध कराना अनिवार्य है। निर्माण स्थलों पर काम करने वाले श्रमिकों के लिए चिकित्सा सुविधाओं के पर्याप्त प्रावधान होने चाहिए। निर्माण स्थलों पर धूल कम करने के उपायों को दर्शाने वाले साइन बोर्ड प्रमुखता से लगाए जाने चाहिए।

Accherishteyये भी पढ़े: गाड़ियों के लिए फिर से बदला गया है नंबर प्लेट सिस्टम, लगाई जाएगी Toll Plate

Abhishikt Masih

अभिषिक्त मसीह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। इन्होने अपने लेख से सच्ची घटनाओं को लिखकर लोगों को जागरूक किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button