ट्रेंडिंगट्रेवलदिल्लीदिल्ली एनसीआर

जानिए इन 5 रेस्टुरेंट के बारे में जिनका खाना हो चूका है बेस्वाद

हम आपको ऐसी ही कुछ दुकाने बताने वाले है जो सालों से इन कारोबार में है लेकिन अब उसको ओवररेटेड माना जा रहा है

देश की राजधानी दिल्ली में तकरीबन सभी लोग है जो खाने के शौक़ीन है। साथ ही दिल्ली में हर क्षेत्र में खाने की इतनी वैरायटी है जिसका आप अंदाज़ा भी नहीं लगा सकते। कही बहुत सालो से खाने की दुकाने चल रही है तो कही अभी लोगों ने इसकी शुरुआत की है। लेकिन कुछ समय से यह भी देखा जा रहा है की जो पुराने सालों से चले आ रहे खाने के स्टाल्स या दुकाने है वो बहुत ज्यादा ओवररेटेड हो गए है। इसका मतलब है की जो उनका खाने का स्वाद अब वैसा नहीं रहा जैसे वो सालों से चला आ रहे था।

हम आपको ऐसी ही कुछ दुकाने बताने वाले है जो सालों से इन कारोबार में है लेकिन अब उसको ओवररेटेड माना जा रहा है।

1. करीम (Karim’s)

KARIM

अगर आप चिकन खाने के शौक़ीन है तो अपने करीम से तो कभी न कभी उसके खाने का स्वाद लिया ही होगा। यह दूकान दिल्ली के जामा मस्जिद में 1913 से है और इसके खाने का स्वाद तब से लोगों का मनचाहा रहा है। हाजी करीमुद्दीन जिन्होंने कहा था, ‘मैं आम आदमी को शाही भोजन परोस कर प्रसिद्धि और पैसा कमाना चाहता हूँ।’ जो की इनका सपना पूरा भी हुआ लेकिन सालों बाद अब इसके खाने में पहले जैसा स्वाद नहीं माना जा रहा है। यहां सबसे अधिक पसंद किए जाने वाले आइटम उनके कबाब और चिकन कोरमा हैं जो दिल्ली में उनके सभी आउटलेट्स पर परोसे जाते हैं, लेकिन जामा मस्जिद के पास सबसे पुराना आउटलेट दूसरों की तुलना में बेहतर व्यंजन परोसता है।

2. अल बाके (Al baake)

Al Bake

अल बाके बहुत पहले से ही शवर्मा बेच रहा है और इसकी खासियत ही यही डिश है। साथ ही इसमें यह बहुत समय से मार्किट में है लेकिन अब इसका भी टास्ते बहुत बदल चूका है। उनकी विशेषता की क्वालिटी अब थोड़ी कम हो गई है। लोग इस उम्मीद में आते हैं कि शवारमास उनके होश उदा देगा, जिसके बारे में बात की जाती है, लेकिन आमतौर पर निराश हो जाते हैं। हालांकि उनके ग्रेवी व्यंजन बहुत अच्छे हैं, और एक सरहाना करने के लायक हैं।

3. पराठे वाली गली (Paranthe Wali Gali)

parathe

दिल्ली में मशहूर पराठे वाली गली तो आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ कभी न कभी तो गए ही होंगे। वो खासकर जानी जाती है अनोखे पराठो के स्वाद के जरिये। यह चांदनी चौक में सीमित है जहां आपको ठेठ पुरानी दिल्ली-ईश वाइब निश्चित रूप से मिलेगी, लेकिन जिन खाने के लिए यह प्रसिद्ध है, वे केवल स्वाद में औसत हैं। साथ ही आस-पास समान खाना परोसने वाली दुकानें हैं और हमें लगता है कि यह जगह थोड़ी ओवररेटेड है।

4. काके दा होटल (Kake Da Hotel)

kake da hotel

दिल्ली में बहुत सारी जगहें हैं जो अपना आकर्षण खो चुकी हैं और सिर्फ ब्रांड नामों तक सिमट गई हैं, और दुख की बात है कि काके दा होटल इस श्रेणी में आता है। हर गुजरते दिन के साथ, उनके भोजन की गुणवत्ता बिगड़ती जा रही है। हमें पता चला है कि वे जगह की साफ-सफाई को लेकर भी थोड़ी लापरवाह हैं। काके दा होटल 1931 से चालू है और इसके बेस्टसेलर में दही मीट, मीट बिरयानी और कीमा कालेजी शामिल हैं, लेकिन हमें लगता है कि इस जगह के आसपास का प्रचार वास्तविकता के अनुरूप नहीं है।

5. ओल्ड फेमस जलेबी वाला (Old Famous Jalebi Wala)

JALEBI

हर कोई अपनी जलेबियों में कुरकुरेपन की लालसा रखता है और जब आपके खाने के स्वाद को वह कुरकुरा नहीं मिलता है, तो यह एक बड़ी निराशा होती है। इस प्रसिद्ध स्थान पर परोसी जाने वाली जलेबियाँ कभी-कभी गीली होती हैं और यात्रा के लायक नहीं होती हैं। हम कहते हैं कि शहर में कई अन्य जगहों पर बेहतर जलेबियां मिलती हैं और यहां परोसी जाने वाली क्वालिटी में थोड़ी अब कम हैं।

Aadhya technology
यह भी पढ़े: अब दमदार पावर के साथ आ रही है Hero Splendor 125cc, जानिए फीचर्स और कीमत

Abhishikt Masih

अभिषिक्त मसीह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। इन्होने अपने लेख से सच्ची घटनाओं को लिखकर लोगों को जागरूक किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button