दिल्लीदिल्ली एनसीआर

दिल्ली को पूरी तरह कूड़ा मुक्त बनाने के लिए MCD ने RWA से मिलाये हाथ, MOU साइन

अब दिल्ली नगर निगम ने जीरो वेस्ट कॉलोनियों की लिस्ट जारी करने के अगले ही दिन कूड़ा मुक्त शहर के लिए एक और बड़ा और स्वच्छ कदम उठाया है

दिल्ली में लोग काफी समय से हर जगह कूड़े से परेशान थे। जिसकी ज़िम्मेदारी 15 साल से BJP के पास थी लेकिन अब सत्ता में बदलाव हुआ है और इसकी कमान AAP पार्टी के पास है। ऐसे में अब दिल्ली नगर निगम ने जीरो वेस्ट कॉलोनियों की लिस्ट जारी करने के अगले ही दिन कूड़ा मुक्त शहर के लिए एक और बड़ा और स्वच्छ कदम उठाया है जहां MCD ने इस वित्तीय वर्ष के अंत तक जीरो वेस्ट कॉलोनियों की संख्या को सौ तक पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित कर दिया है।

बता दें किअब कूड़े कि साफ़ सफाई के लिए MCD ने ‘सहभागिता’ योजना के प्रभाव में कार्यान्वयन के लिए अब RWA के साथ हाथ मिला लिया गया है। साथ ही एमसीडी ने ‘को-यूनाइटेड रेजिडेंट्स ज्वाइंट एक्शन’ (Energy) के साथ एक समझौता ज्ञापन पर भी हस्ताक्षर किए हैं। वही ऊर्जा जो कि दिल्ली के करीब 2500 आरडब्ल्यूए का एक संघ है। साथ ही इस समझौते को लेकर एमसीडी ने बताया है कि टैक्स कलेक्शन दक्षता बढ़ाने के लिए RWA की सक्रिय भागीदारी जरूरी होगी।

ऐसे में इस समझौते के तहत ऊर्जा, आरडब्ल्यूए और उनके अधीन आवास की लिस्ट बनाकर निगम को उपलब्ध कराई जाएगी और ये उपलब्ध कराने के लिए काम करेगा। इतना ही नहीं दिल्ली नगर निगम संबंधित आरडब्ल्यूए के फोलियो के चलते प्रोत्साहन राशि रखने के लिए एक एस्क्रो खाता भी बनाएगा और एक सहभागिता सेल का भी गठन होगा जिसे संपत्ति कर विभाग के अधिकारी पूरे जोन में पात्र RWA की हर संभव सहायता के लिए नियुक्त करेगा।

वही देखा जाए तो MCD अपने वेब पोर्टल पर सहभागिता के तहत आरडब्ल्यूए के पंजीकरण के लिए परेशानी मुक्त ऑनलाइन प्रणाली सेआए भी सुनिश्चित करेगी। साथ ही गीला कचरा निस्तारित करने के लिए एमसीडी की पात्रता की पुष्टि DC करेंगे और आवेदन प्राप्त होते ही सहभागिता प्रकोष्ठ (Cell) सात दिन में जोनल उपायुक्त को सूचना देने और 15 दिन के अंदर खरीदारी का ऑर्डर भी दे दिया जाने वाला है।

Accherishteyये भी पढ़े: गाड़ियों के लिए फिर से बदला गया है नंबर प्लेट सिस्टम, लगाई जाएगी Toll Plate

Abhishikt Masih

अभिषिक्त मसीह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। इन्होने अपने लेख से सच्ची घटनाओं को लिखकर लोगों को जागरूक किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button