दिल्लीदिल्ली एनसीआर

MCD-NDMC द्वारा भगवान राम के झंडे उतारने और बैनर उतारने का निर्देश

MCD और NDMC द्वारा अपने निर्देश में बताया गया है कि भगवान राम की छवि वाले सभी झंडे तय मानकों के चलते ही दिल्ली के व्यापारिक संगठन हटाएं।

हाल ही में यूपी के अयोध्या में हुआ रामलला प्राण प्रतिष्ठा और राम मंदिर का ही उद्घाटन का पूरा कार्यक्रम उत्साह के साथ ही 22 तारीख को संपन्न होने के बाद ही अब दिल्ली के नगर निकायों द्वारा आदेश जारी किये गया है जिसमे सभी झंडों को सलीके से हटाने के निर्देश दें दिए गया हैं। वही दिल्ली नगर निगम (MCD) और नई दिल्ली नगर पालिका परिषद (NDMC) द्वारा एक दिन पहले जारी अपने निर्देश में बताया गया है कि भगवान राम की छवि वाले सभी झंडे तय मानकों के चलते ही दिल्ली के व्यापारिक संगठन हटाएं।

बता दें कि अब पूरी दिल्ली में ही ये झंडे अयोध्या में रामलला प्राण प्रतिष्ठा समारोह के ही चलते राजधानी में लगाए गए थे और वही नई दिल्ली नगर पालिका परिषद द्वारा भी अब 24 जनवरी को गणतंत्र दिवस समारोह के मद्देनजर राष्ट्रीय ध्वज के निपटान के लिए ही अब ये दिशानिर्देश जारी किए गया हैं। वहीं, MCD द्वारा अभी तक इस पर कोई भी वैसे निर्देश जारी नहीं किए हैं और एनडीएमसी द्वारा झंडों के व्यवस्थित तरीके से निपटान के लिए आम लोगों और दिल्ली ट्रेडर्स के भी संगठनों के लोगों के लिए एक केंद्रीकृत नंबर और मोबाइल एप्लिकेशन भी इसमें जारी किया है। साथ ही लोगों से अपील भी की है कि वे नागरिक निकाय द्वारा शासित क्षेत्र में 14 स्थानों पर ही स्थित एनडीएमसी के स्वच्छता कार्यालयों में झंडे जमा करें।

राजधानी में लगे थे 10 लाख झंडे

NDMC के एक अधिकारी द्वारा 24 जनवरी को बताया गया कि MCD और NDMC ने भगवान राम और हनुमान की तस्वीरों वाले झंडों और बैनरों को भी सावधानीपूर्वक हटाने की अब अपील सभी से की है। दरअसल, दिल्ली में लगभग ही 800 व्यापारिक संगठनों की ही संस्था चैंबर ऑफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री के चलते रामलला प्राण प्रतिष्ठा समारोह के ही अवसर पर ही राजधानी के 700 बाजारों में कुल 10 लाख झंडे लगाए गए थे।

Accherishtey

ये भी पढ़े: मेट्रो यात्रियों के लिए खुशखबरी! अब लाइन चेंज करने के लिए नहीं चलना पड़ेगा अधिक

Abhishikt Masih

अभिषिक्त मसीह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। इन्होने अपने लेख से सच्ची घटनाओं को लिखकर लोगों को जागरूक किया है।

Related Articles

Back to top button