दिल्ली

अब नहीं करना होगा एयरपोर्ट पर सामान का इंतज़ार, शुरू हुई टैग सुविधा

दिल्ली में अब यात्रियों को सामान कि समस्या से छुटकारा मिलेगा क्योकि RFID तकनीक पर आधारित टैग की सुविधा यात्रियों को दी जाएगी

अक्सर जब भी आप फ्लाइट में सफर करते है तो आपके लिए बहुत बड़ी समस्या होती है आपका सामान। आपको हमेशा अपना सारा सामान पूरा एयरपोर्ट पर जमा कराना होता है और उसके बाद वापस आते है उसके लिए लाइनों में लगना पड़ता है और गलती से सामान किसी वजह से नहीं मिल पाया तो उसके भी चक्कर काटने पड़ते है। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा क्योकि अब इसी से जुडी सुविधा लोगों को दी जाएगी।

बता दें कि दिल्ली में अब यात्रियों को सामान कि समस्या से छुटकारा मिलेगा क्योकि इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटीफिकेशन (RFID) तकनीक पर आधारित टैग की सुविधा यात्रियों को दी जाएगी। जिसका फायदा होगा कि लोगों को पता चलता रहेगा कि उनका सामान टर्मिनल में कब और किस कन्वेयर बेल्ट पर आ रहा है। दिल्ली एयरपोर्ट इस तरह से भारत में इस तरह की सुविधा देने वाला पहला एयरपोर्ट बन गया है।

इस पायलट प्रोजेक्ट द्वारा दिल्ली एयरपोर्ट के टर्मिनल-3 पर आरएफआईडी कोट आधारित टैग की सुविधा शुरू हो चुकी है। जहां अब विमान यात्री अपने सामान की जानकारी क्यूआर कोड के माध्यम से पता कर सकेंगे। साथ ही फ्लाइट लैंड होने के बाद मोबाइल के जरिये बता दिया जायेगा कि आपका सामान अभी कहा है। हालांकि, इसका सबसे ज्यादा फायदा उन लोगों को होगा जिनकी कनेक्टिंग फ्लाइट है।

फिलहाल अभी इस सुविधा को दिल्ली एयरपोर्ट पर ही मिलेगी जहां आपको एयरपोर्ट से इस टैग को खरीदेंगे और वापसी दिशा में अपने सामान को दिल्ली एयरपोर्ट पर ढूंढ़ पाएंगे। किसी अन्य एयरपोर्ट पर यह सुविधा फिलहाल नहीं शुरू की गई है।

कैसे होगा इस्तेमाल ?

इसके लिए आपको पहले टैग का रजिस्ट्रेशन करवाना होगा और फिर इसको अपने बैग में बांधना होगा या वे बैग के अंदर भी इसे रख सकते हैं। जब सामान एयरपोर्ट पहुंचेगा तो यात्रियों को रेजिस्टरर्ड मोबाइल नंबर पर मैसेज भेजा जाएगा। इससे सामान की जानकारी मिल जाएगी। इस टैग को सामान के अंदर या बाहर दोनों जगह आप रख सकते है।

Tax Partner
यह भी पढ़े: दिल्ली में खुलने वाली है World Class Nursery, 5 रुपए में खरीद सकते है पौधे

Abhishikt Masih

अभिषिक्त मसीह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। इन्होने अपने लेख से सच्ची घटनाओं को लिखकर लोगों को जागरूक किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button