दिल्ली

15 साल पुराने पेट्रोल वाहनों के पंजीकरण होंगे रद्द, NGT ने दिया आदेश

दिल्ली सरकार ने राजधानी में बढ़ते वायु प्रदूषण पर शिकंजा कसने के लिए 15 साल पुराने पेट्रोल वाहनों पर सख्ती करने की तैयारी कर ली है। 

दिल्ली सरकार ने राजधानी में बढ़ते वायु प्रदूषण पर शिकंजा कसने के लिए 10 साल पुराने डीजल वाहनों के बाद 15 साल पुराने पेट्रोल वाहनों पर सख्ती करने की तैयारी कर ली है। 

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के पहले के आदेश के मुताबिक दिल्ली में 10 साल से अधिक डीजल और 15 साल से अधिक पेट्रोल वाहनों को चलने की इजाजत नहीं है। 

परिवहन विभाग ने मियाद पूरी कर चुके वाहनों को दोबारा नए सिरे से इस्तेमाल के लायक बनाने के लिए रेट्रो फिटमेंट में विकल्प दिया है। विभागीय अधिकारीयों ने बताया कि इसके लिए एजेंसियां भी नियुक्त की जा सकती हैं। 

वाहनों की रेट्रो फिटमेंट करने के बाद इनको सड़क पर दुबारा उतारा जाएगा। इलेक्ट्रिक वाहनों में तब्दील किए जाने के बाद प्रदूषण नहीं होगा, इसलिए वाहनों को आगे भी इस्तेमाल किया जा सकेगा।

परिवहन आयुक्त एवं प्रमुख सचिव आशीष कुंद्रा ने कहा कि पुराने डीजल और पेट्रोल वाहनों पर कार्रवाई की जा रही है। पहले चरण में डीजल वाहनों के बाद 15 साल की मियाद पूरी कर चुके पेट्रोल वाहनों की बारी है।

दिल्ली में ऐसे करीब 30 लाख  वाहन हैं, जिनके पंजीकरण रद्द किए जाएंगे। कोरोना की तीसरी लहर के दौरान लागू बंदिशों के कारण फिलहाल कार्रवाई की रफ्तार थोड़ी कम है। 

Insta loan services

ये भी पढ़े: सीमापुरी में दम घुटने से हुई 5 की मौत, उजड़ गया परिवार; साजिश की आशंका

Related Articles

वन कमेंट

  1. Air pollution from old petrol vehicles is nil to ban such car is totally against pro people’s rights and have no scientific REVELENCE. MY humble request to Authorities to lift the ban as we retirees cannot afford to buy new vehicles .Regards

Leave a Reply

Back to top button