दिल्ली

शालीमार बाग में मचा बवाल, आठ पुलिसकर्मी समेत नौ घायल

देश की राजधानी दिल्ली के शालीमार बाग से पुलिस कर्मचारियों पर हमला करने की खबर सामने आई है. आरोप है कि लोगों ने पुलिस पर पथराव कर

देश की राजधानी दिल्ली के शालीमार बाग से पुलिस कर्मचारियों पर हमला करने की खबर सामने आई है. आरोप है कि लोगों ने पुलिस पर पथराव कर दिया और चार गाड़ियों में तोड़फोड़ की कोशिश की। यातायात पुलिस की एक बाइक में आग लगाने का प्रयास किया। हालात बेकाबू होते देखकर पुलिस अधिकारियों ने अतिरिक्त पुलिस बल मौके पर बुलाया और लाठीचार्ज कर लोगों को खदेड़ा।

शालीमार बाग इलाके में बुधवार देर रात स्थानीय लोगों का पुलिस के साथ टकराव हो गया। लोगों ने आरोप लगाया है कि कुछ व्यक्ति इलाके में नशे का धंधा करते हैं, जिससे असामाजिक तत्वों का यातायात रहता है।

शिकायत करने के बाद भी पुलिस किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं करती है। इसके विपक्ष में करीब 200 लोगों ने प्रेमवाड़ी पुल के पास सड़क पर जाम लगा दिया। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हटाने की कोशिश की तो बेहद हंगामा हो गया। आरोप है कि लोगों ने पुलिस पर पथराव कर दिया और चार गाड़ियों में तोड़फोड़ की कोशिश की। यातायात पुलिस की एक बाइक में आग लगाने का प्रयास किया।

जब हालात बेकाबू होते हुए दिखे तो पुलिस अधिकारियों ने अतिरिक्त पुलिस को मौके पर बुलाया और लाठीचार्ज कर लोगों को हटा दिया। घंटों चले हंगामे में आठ पुलिसकर्मी के साथ नौ लोग और घायल हो गए, जिन्हें अस्पताल से प्राथमिक इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई।

शालीमार बाग में पुलिस ने सरकारी कार्य में रूकावट डालने पर दंगा और हत्या का प्रयास समेत बाकि धाराओं में मामला दर्ज कर 27 आरोपियों को गिरफ्तार किया। शालीमार बाग की झुग्गियों में रहने वाले लोगों का कहना था कि सांसी समुदाय का एक व्यक्ति नशे का कारोबार करता है। असामाजिक तत्वों के आवागमन के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। विरोध करने पर वह मारपीट पर उतारू हो जाता है।

बुधवार रात लगभग साढ़े 10 बजे लोगों ने एओ ब्लॉक शालीमार बाग जाम लगा दिया। साथ ही हाथों में तिरंगे लेकर वह सभी से नशे के धंधे पर रोक लगाने की मांग कर रहे थे। इस बीच गश्त करते हुए वजीरपुर औद्योगिक क्षेत्र चौकी प्रभारी उपनिरीक्षक प्रेमप्रकाश टीम के साथ पहुंचे और लोगों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन लोग नहीं माने और हंगामा करने लगे। मौके की नजाकत भांपते हुए कई थानों की फोर्स बुला ली गई।

आरोप है कि पुलिस ने जब लोगों को हटाने का प्रयास किया तो उन्होंने पथराव कर डाला। पुलिसकर्मियों के ऊपर बोतलें फेंकी गईं। पथराव से पुलिस की चार गाड़ियों के शीशे टूट गए। उपद्रव कर रहे लोगों ने यातायात पुलिसकर्मी की एक बाइक को आग लगाने की कोशिश की, लेकिन आग पर तुरंत काबू पा लिया गया।

पथराव में सुभाष प्लेस के थाना प्रभारी राजेश झा, केशवपुरम थाना प्रभारी राजेश कुमार, उपनिरीक्षक प्रेम प्रकाश सिंह, साथी पुलिस निरीक्षक मनोज कुमार, हवलदार अनिल कुमार, सिपाही अशोक और राकेश घायल हो गए। एक स्थानीय निवासी संतोष भी जख्मी है।

पुलिस का कहना है कि स्थानीय निवासी संतोष का तीन नशेड़ियों से झगड़ा हो गया था। उसके बाद संतोष झुग्गी से लोगों को बुलाकर सड़क पर ले आया और नशेड़ियों पर रोक लगाने की मांग को लेकर सड़क जाम लगा दिया। हंगामा कर रहे लोगों को खदेड़ने के लिए मामूली बल प्रयोग किया गया। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
Insta loan services

यह भी पढ़े: पुरानी गाड़ी वालों की बले-बले, दोबारा रजिस्ट्रेशन करा चला सकेंगे पुरानी गाड़ी

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button