दिल्ली

प्रदूषण स्तर में मामूली गिरावट, दिल्ली में वायु गुणवत्ता अभी भी ‘गंभीर’

AQI 410 पर, नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने शुक्रवार को प्रभावित राज्यों के मुख्य सचिवों से से मांगी है प्रतिक्रिया

दिल्ली-एनसीआर के कई हिस्सों में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) ‘गंभीर’ श्रेणी में होने के कारण, नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने प्रभावित राज्यों के मुख्य सचिवों से से प्रतिक्रिया मांगी है। इस स्थिति में, जहाँ AQI गंभीर, बहुत खराब और खराब स्तर तक गिर गया है, नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने उन्हें तत्काल उपचारात्मक कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। यह समस्या दिल्ली में न केवल गंभीर प्रदूषण की वृद्धि का कारण बन रही है, बल्कि लोगों के स्वास्थ्य के लिए भी एक बड़ी चिंता का कारण बन गई है।

 

इस स्थिति में, दिल्ली में हवा की गुणवत्ता मामूली गिरावट के साथ AQI 410 दर्ज की गई है। SAFAR-India के अनुसार, लोधी रोड क्षेत्र में वायु गुणवत्ता 385 (बहुत खराब) है, जबकि दिल्ली विश्वविद्यालय क्षेत्र में 456 (गंभीर) का स्तर है। लोगों की स्वास्थ्य स्थिति का अवलोकन करते हुए उचित उपचार और कठिन कार्रवाई की जरूरत है।

 

लोधी गार्डन में सुबह की सैर करने वाले व्यक्तियों ने प्रदूषण के वृद्धि से सांस लेने में कठिनाई की शिकायत की है। प्रदूषण के कारण लोगों की स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं बढ़ सकती हैं, जो विशेष रूप से श्वास संबंधित बीमारियों के लिए हानिकारक हो सकती हैं।

 

इस संकट के समाधान के लिए, दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेन्द्र यादव से पत्र लिखकर उनसे दिल्ली में बीएस-6 मानकों का पालन न करने वाले वाहनों को प्रवेश न देने की मांग की है। इसका मकसद यह है कि निवासियों को शुद्ध वायुमंडल सुनिश्चित किया जा सके।

 

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने इस मामूली गिरावट की चुनौती को समझते हुए तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता जताई है। इस परिस्थिति में लोगों की सुरक्षा और स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए संबंधित अधिकारियों को उचित कदम उठाने की जरूरत है।

 

इस समय प्रदूषण की भयानक वृद्धि के कारण कारोबार में नुकसान हो रहा है, जिसने सीटीआई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर सख्त कार्रवाई की मांग करने पर मजबूर किया है। इस विषय पर सरकार की गंभीरता को समझते हुए, इस पर तत्परता से कार्रवाई की जानी चाहिए ताकि लोगों की सुरक्षा और स्वास्थ्य की सुरक्षा सुनिश्चितकी जा सके।

 

 

Accherishtey

Related Articles

Back to top button