>
दिल्लीधर्म

जामा मस्जिद में लड़कियों की एंट्री पर लगी रोक, जानिए क्या है शर्त?

राष्ट्रीय दिल्ली की ऐतिहासिक जामा मस्जिद में अब अकेली लड़कियों की एंट्री पर बैन कर दिया गया है. मस्जिद के एंट्री गेटों पर अकेली महिलाओं के

राष्ट्रीय दिल्ली की ऐतिहासिक जामा मस्जिद में अब अकेली लड़कियों की एंट्री पर बैन कर दिया गया है. मस्जिद के एंट्री गेटों पर अकेली महिलाओं के लिए अब नो-एंट्री का बोर्ड लग गया. और साथ ही नोटिस में लिखा है कि जामा मस्जिद के अंदर अब लड़की या लड़कियों का अकेले जाना मना है. मतलब कि बिना पुरुष के महिलाएं अब अकेले जामा मस्जिद में एंट्री नहीं कर सकती. इतना ही नहीं, इस बात पर अब राजनीति भी शुरू हो गई है. दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल ने भी इस आदेश पर विरोध किया है.

स्वाति मालीवाल ने ट्वीट कर कहा:

आदेश के विरोध में उठी आवाज:

कई सामाजिक कार्यकर्ताओं ने जामा मस्जिद के इस फैसले का विरोध किया है. सामाजिक कार्यकर्ता शहनाज अफजल ने बोला कि भारत में हर किसी को बराबरी का अधिकार है. उसमें इस प्रकार का फैसला संविधान को भंग करता है. साथ ही उन्होंने कहा कि इस तरह का लिया हुआ फैसला किसी भी प्रकार में सही नहीं है. इबादत की यह जगह सभी के लिए खुली होनी चाहिए.

शाही इमाम की सफाई:

वहीं जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने बताया कि मस्जिद में नमाज पढ़ने आने वाली महिलाओं को बिलकुल नहीं रोका जाएगा. उन्होंने कहा कि काफी शिकायतें आ रही थीं कि मस्जिद में लड़कियां अपने प्रेमी के साथ आती हैं. यदि कोई महिला जामा मस्जिद आना चाहती है तो उसे घरवालों या पति के साथ आना होगा.

Accherishtey

यह भी पढ़ें: भारत में इन 4 धांसू कारों के आने वाले हैं सीएनजी मॉडल, इस साल होंगी लॉन्च

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button