दिल्ली

“छात्रों पर हमनें भोजन का विकल्प नहीं थोपा”, JNU हिंसा पर VC ने कहा

बीते दिनों जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी यानी जेएनयू में नॉन-वेज खाने को लेकर विवाद हुआ था। यह विवाद बढ़ते-बढ़ते मारपीट तक पहुंच गया।

बीते दिनों जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी यानी जेएनयू में नॉन-वेज खाने को लेकर विवाद हुआ था। यह विवाद बढ़ते-बढ़ते मारपीट तक पहुंच गया। इसके चलते कई छात्र जख्मी हो गए थे।

बता दें कि इस पूरे मामले पर जेएनयू की वाइस चांसलर शांतिश्री धूलिपुडी पंडित ने कहा कि जेएनयू भोजन का विकल्प नहीं थोपता। वही इस बात पर जोर दिया कि बच्चे बहस कर सकते है,आंदोलन कर सकते है, लेकिन हिंसा में शामिल नहीं होने चाहिए। वीसी ने आगे कहा कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कुछ समूह के कारण विश्वविद्यालय की पहचान राष्ट्र विरोधी की जा रही है।

वीसी ने 10 अप्रैल की हिंसा पर बात करते हुए कहा कि जेएनयू के 17 छात्रावास है। इनमें से 16 छात्रावास में रामनवमी पूजा और इफ्तार पार्टी शांति के साथ आयोजित हुई थी। वीसी ने आगे बताया कि दोनों पक्षों से मोबाइल वीडियो जमा कर लिया गया है। हालांकि हॉस्टल में कैमरा ना होने के कारण स्वतंत्र फुटेज नहीं है।

वीसी अपने विश्वविद्यालय के दिनों को याद करते हुए कहती है कि उस समय कोई भी धार्मिक कार्यक्रम मानाने कि अनुमति नहीं थी। लेकिन पिछले 20 सालों इसकी अनुमति दी गई है। हालांकि अगर धार्मिक कार्यकर्म शांति से हो रहा है, तो हमें कोई दिक्कत नहीं है।

Tax Partner
यह भी पढे़: पंजाबी बाग के रेस्टोरेंट में लगी भीषण आग, मौके पर दमकल की 12 गाड़ियां मौजूद

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button