हेल्थ

सेहत का वरदान है ‘काली मिर्च’, कई समस्याओं से दिलाती है निजात

काली मिर्च में एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटी बैक्टीरियल, एंटी-फ्लैटुलेंस तथा एंटी-माइक्रोबियल गुणों से भरा होता है। देशभर में किंग ऑफ स्पाइस के

काली मिर्च में एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटी बैक्टीरियल, एंटी-फ्लैटुलेंस तथा एंटी-माइक्रोबियल गुणों से भरा होता है। देशभर में किंग ऑफ स्पाइस के नाम से जाने हुए यह इस मसाले में एक पोषक तत्वों का भंडार मिला होता है। इस लेख में हम आपको बताने जा रहे है कि मानसून में आपके पाचन तंत्र तथा इम्यूनिटी को मजबूत करने के चलते डाइट में इसे हिस्सा देना बेहद जरूरी है और आपको क्या-क्या लाभ हो सकते हैं।

डाइजेशन के लिए लाभकारी

बदलते हुए मौसम में पाचन तंत्र को काफी प्रकार तरह की परेशानियों से निकलना पड़ता है। ऐसे में, काली मिर्च में होने वाले पाइपरिन नाम के तत्व पाचन तंत्र से जुड़े हुए एंजाइम को बूस्ट करने में आपकी सहयता करता है और इससे आपका डाइजेशन भी काफी इम्प्रूव होता है।

स्ट्रांग इम्युनिटी
मानसून के सीजन में ज्यादातर लोगों को कमजोर इम्युनिटी की परेशानी होती है। ऐसे में, यदि आप भी थकान तथा कमजोरी का कोई सस्ता तथा टिकाऊ उपाय देख रहे हैं, तो काली मिर्च इस मामले में काफी फायदेमंद हो सकती है। इसके सेवन से आप काफी प्रकार के संक्रमण से बचते हैं।

वेट लॉस में फायदेमंद
मानसून के मौसम में ज्यादातर खानपान खराब रहता है, ऐसे में वेट लॉस भी करना काफी मुश्किल होता है। बता दें, वजन घटाने के लिहाज से भी काली मिर्च ऑप्शन है। इसमें मौजूद पाइपरिन तथा एंटी ओबेसिटी गुण वजन घटाने में काफी सहयता करते हैं, जिससे आपको मोटापे की समस्या से छुटकारा मिल सकता है।

जोड़ों के दर्द से दिलाए राहत
मानसून के मौसम में अक्सर जोड़ों का दर्द भी बढ़ जाता है, ऐसे में अगर आप काली मिर्च को अपनी डाइट में शामिल करते हैं तो इससे सूजन और दर्द से भी राहत मिलती है। बता दें, कि ऐसा काली मिर्च में मौजूद एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटी अर्थराइटिस गुणों के कारण होता है।

Related Articles

Back to top button