हेल्थ

पोल्यूशन महिलाओं के लिए खतरा, हो सकता है ब्रेस्ट कैंसर, 

अमेरिका और फ्रांस में हुए इंटरनेशनल रिसर्च से यह पता चला है कि घर के अंदर और बाहर पार्टिकुलेट मैटर कॉन्टैक्ट में आने से ब्रेस्ट कैंसर का जोखिम बढ़ सकता है।   

 

 

  

वायु प्रदूषण के कारण  हर नौंवे शख्स को कैंसर की बिमारी हो सकती है दुनिया भर में ज़्यादातर महिलाएं ब्रेस्ट कैंसर जैसी बिमारी से पीड़ित हैं। वहीं दूसरी ओर इस बात के सबूत मिले हैं कि महिलाओं में ये कितनी तेजी से बिमारी फैल रही है। उसका एक कारण एयर पॉल्यूशन भी है, जिससे किकैंसर जैसी बीमारियों का जोखिम बढ़ाता है। साथ ही पार्टीकुलर मैटर पीएम 2.5 और पीएम 10 जो समय से पहले दिल का दौरा और स्ट्रोक आदि बीमारियों का कारण बन सकता है। अमेरिका और फ्रांस में हुए इंटरनेशनल रिसर्च से यह पता चला है कि घर के अंदर और बाहर पार्टिकुलेट मैटर कॉन्टैक्ट में आने से ब्रेस्ट कैंसर का जोखिम बढ़ सकता है। 

 

रिसर्च में ये बात साफ की गई कि वायु प्रदूषण और ब्रेस्ट कैंसर के बीच क्या कनेक्शन है, उस पर अभी और रिसर्च करना होगा। रिसर्च ने इस बात से सहमति जताई है कि आने वाले समय में वायु प्रदूषण किस तरह से ब्रेस्ट कैंसर के जोखिम को बढ़ा सकता है। इस पर ज्यादा से ज्यादा रिसर्च करने की आवश्यकता है। नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट के जर्नल में पब्लिश रिसर्च के अनुसार उन लोगों में 8% कैंसर का जोखिम बढ़ता है जोकि 2.5 हाई पी एम वाले क्षेत्र में रह रहे हैं। 

Metastatic breast cancer: Warning signs that you must never ignore | The Times of India 

रिपोर्ट के मुताबिक ये भी बताया गया है कि भारत में 1965 और 1985 के बीच ब्रेस्ट कैंसर की घटनाओं में 50% की बढ़ोत्तरी हुई है। भारत में ग्लोबोकेन डेटा के मुताबिक ब्रेस्ट कैंसर  बाकी कैंसरों के मामले में 3.5% और 10.6% था। 

 

ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण क्या हैं 

 

अलग अलग लोगों में ब्रेस्ट कैंसर के अलग अलग लक्षण दिखाई देते हैं। कुछ लोगों के शुरुआती लक्षण बिल्कुल भी नहीं दिखाई देते। 

 

  • ब्रेस्ट के बीच या फिर उसके अगल बगल गांठ का पड़ना 
  • ब्रेस्ट की त्वचा में जलन होना 
  • ब्रेस्ट या फिर उसके निप्पल में परतदार त्वचा 
  • ब्रेस्ट के आकार या साइज में बदलाव  
  • ब्रेस्ट के किसी भी हिस्से में दर्द होना 

 

Accherishteyयह भी पढ़ें:  जानिए आखिर वजन घटने के बाद भी क्यों लगती है भूख 

Related Articles

Back to top button