देश

आज के दिन ही 40 जवानों की गई थी जान, फिर इस तरह पाकिस्तान में घुस कर लिया था बदला

पुलवामा में हुए टेरेरिस्ट अटैक को आज 4 साल पूरे हो गए है श्रीनगर-जम्मू नेशनल हाईवे पर जा रहे केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CPRF) के काफिले में विस्फोटक लेकर जा रहे एक वाहन को टक्कर मार दी थी

पुलवामा में हुए टेरेरिस्ट अटैक को आज 4 साल पूरे हो गए है आज के दिन यानि 14 फरवरी को दुपहर के करीब 3 बजे जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के एक आतंकवादी ने श्रीनगर-जम्मू नेशनल हाईवे पर जा रहे केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CPRF) के काफिले में विस्फोटक लेकर जा रहे एक वाहन को टक्कर मार दी थी और इस हादसे में करीब 40 जवान शहीद हो गए थे. आपको बता दें कि इस काफिले में करीब 78 बसें थी और इस हादसे के बाद भारत और पाकिस्तान में तनाव भी बड़ गया था इस काफिले में करीब 2500 जवान यात्रा कर रहे थे।

इस हमले के बाद जवानों को पास के ही हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था लेकिन मोके पर बड़ी संख्या में जवान शहीद हुए थे जानकारी के मुताबिक इस घटना को अंजाम देने वाले हमलावर का नाम आदिल अहमद डार था इसके अलावा हमले में सज्जाद भट्ट, मुदसिर अहमद खान भी शामिल थे जिसे बाद में सेना ने मौत के घाट उतार दिया था। इस मामले पर जांच राष्ट्रीय जाँच एजेंसी NIA ने की जिसमे उन्होंने 13 हजार से भी ज्यादा पन्नों की चार्जशीट दाखिल की थी।

जानकारी के मुताबिक जवानों का पार्थिव शरीर वायुसेना के विशेष विमान द्वारा वायुसेना इलाके में लाया गया था और शहीदों का पार्थिव शरीर तिरंगे में लपेटा गया था. इसके अलावा आपको बता दें कि 26 फरवरी, 2019 की रात को तकरीबन तीन बजे भारतीय वायुसेना के 12 मिराज 2000 फाइटर जेट्स ने लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) को पार करके बालाकोट स्थित जैश-ए-मोहम्मद के ठिकाने को धवस्त कर दिया था और इस हमले में पाकिस्तान द्वारा पोषित 300 आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया गया था।

इसके अलावा आतकियों पर तक़रीबन हजार किलो बम आतंकी ठिकानों पर बरसाए गए थे. इस हमले का बदला लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एनएसए अजित डोभाल को जिम्मेदारी दी थी. वायु सेना प्रमुख बीएस धनोआ ने भी एयरस्ट्राइक में एहम भूमिका निभाई थी।

Accherishtey

ये भी पढ़े: Pakistan Crisis: पाकिस्तान में महंगाई की मार, चिकन पहुंचा 800 रुपए किलो और टमाटर पहुंचा इतना

Jagjeet Singh

जगजीत सिंह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे हैं। इन्होंने टेक्निकल, विश्व और एजुकेशन से सम्बंधित लेखो को अपने लेखन में प्रकाशित किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button