देश

पतंजलि के इन प्रोडक्ट्स पर धामी सरकार ने लगाया बैन, नहीं चलेंगे विज्ञापन

हाल ही में भ्रामक विज्ञापनों का हवाला देते हुए आयुर्वेद और यूनानी लाइसेंस अथॉरिटी, उत्तराखंड ने पतंजलि के प्रोडक्ट्स पर रोक लगाने को कहा है

देश में बहुत तेज़ी से फेल रहे पतंजलि के प्रोडक्ट्स को बहुत लोगों द्वारा इस्तेमाल किया जा रहा है क्योकि वह पूरे आयुर्वेदिक और बिना मिलावट के है ऐसा कंपनी दवा करती है। लेकिन हाल ही में भ्रामक विज्ञापनों का हवाला देते हुए आयुर्वेद और यूनानी लाइसेंस अथॉरिटी, उत्तराखंड ने पतंजलि के प्रोडक्ट्स बनाने वाली दिव्य फार्मेसी को पांच दवाओं पर रोक लगाने को कहा है। जानिए पूरी खबर

बता दें कि इन सब के विरोध में योग गुरु बाबा रामदेव ने एक ‘आयुर्वेद विरोधी ड्रग माफिया’ पर साजिश करने का आरोप लगाया है और साथ ही कंपनी ने कहा कि उसे अखबारों में छपी रिपोर्ट में दिए गए आदेश की कॉपी नहीं मिली है लेकिन किसी ‘आयुर्वेद विरोधी ड्रग माफिया की संलिप्तता स्पष्ट है।’

इतना ही नहीं कंपनी ने एक बयान जारी कर बताया कि ‘पतंजलि द्वारा बनाए गए सभी उत्पादों और दवाओं को 500 से अधिक वैज्ञानिकों की मदद से आयुर्वेद परंपरा में उच्चतम अनुसंधान और गुणवत्ता के साथ सभी वैधानिक प्रक्रियाओं और अंतरराष्ट्रीय मानकों को पूरा करते हुए, निर्धारित मानकों का पालन किया जाता है। आयुर्वेद और यूनानी सेवा उत्तराखंड द्वारा प्रायोजित तरीके से 9.11.2022 को जो पत्र षडयंत्रपूर्वक लिखा और मीडिया में प्रसारित किया गया था, उसे अब तक किसी भी रूप में पतंजलि संस्थान को उपलब्ध नहीं कराया गया है।’

हालाँकि, रिपोर्ट अनुसार, देहरादून में आयुर्वेद और यूनानी लाइसेंसिंग प्राधिकरण ने दिव्य फार्मेसी को मधुग्रित, आईग्रिट, थायरोग्रिट, बीपीग्रिट और लिपिडोम का उत्पादन पर रोक लगाने के निर्देश दिया है और इसके आदेश डॉ GCS जंगपांगी, लाइसेंस अधिकारी, उत्तराखंड आयुर्वेदिक और यूनानी सेवा द्वारा जारी किया गया था और पतंजलि पर भ्रामक विज्ञापनों का आरोप लगाया था।

Accherishtey ये भी पढ़े: अब दिल्ली में बड़ा सकेंगे मकान की एक और मंजिल, MCD ने दी मंजूरी

Abhishikt Masih

अभिषिक्त मसीह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। इन्होने अपने लेख से सच्ची घटनाओं को लिखकर लोगों को जागरूक किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button