देश

सामाजिक सुरक्षा को समर्पित है सरकार की अटल पेंशन योजना

आंकड़ों के अनुसार अटल पेंशन योजना के अंतर्गत अब तक 6 करोड़ से अधिक लाभार्थी जुड़े, चालू वित्त वर्ष में 79 लाख से अधिक लोग हैं जुड़े

समाज में सामाजिक सुरक्षा का महत्त्व अत्यधिक है, और इसके लिए विभिन्न योजनाएं रखी जाती हैं जो नागरिकों को उनके जीवन स्तर को बेहतर बनाने में मदद करती हैं। भारत में, अटल पेंशन योजना एक ऐसी महत्वपूर्ण योजना है जो नागरिकों को वृद्धावस्था में आय की सुरक्षा प्रदान करती है।

 

इस योजना के अंतर्गत, अब तक 6 करोड़ से अधिक लाभार्थी शामिल हो चुके हैं, और यह अंतरराष्ट्रीय चालू वित्त वर्ष में 79 लाख से अधिक लोगों को लाभ पहुंचा रही है। यह योजना समाज के सबसे कमजोर वर्गों को पेंशन के दायरे में लाने में सफल हो रही है और इसने असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को एक सुरक्षित भविष्य की दिशा में कदम उठाने में मदद की है।

 

इस योजना के तहत, 60 साल की आयु में लोगों को 1,000/- से 5,000/- रुपये प्रति माह की न्यूनतम पेंशन की गारंटी मिलती है। यह योजना साल 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की गई थी और इसका उद्देश्य असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को आय की सुरक्षा और वृद्धावस्था में न्यूनतम पेंशन की सुनिश्चितता प्रदान करना था।

 

इस योजना में लाभार्थियों की आयु और निवेशों को ध्यान में रखते हुए पेंशन की राशि निर्धारित की जाती है, और यदि कोई लाभार्थी असामयिक मृत्यु की स्थिति में है, तो उसके परिवार को भी इस योजना का लाभ मिलता है। इसके साथ ही, योजना की प्रक्रिया भी सरल है और योजना के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए प्रयास किया जा रहा है।

 

अटल पेंशन योजना ने लोगों को मासिक आय प्रदान करके उनके बुढ़ापे में आत्मसम्मान और सुरक्षित जीवन की सुनिश्चितता दी है, विशेषकर जब वे कमाई नहीं कर रहे होते हैं और जीवन यापन की लागत बनी रहती है।

Accherishtey

Related Articles

Back to top button