देश

Gujrat: BJP सांसद ‘मोहन कुंदारिया’ के 12 रिश्तेदारों की मोरबी हादसे में मौत

मोरबी में मच्छू नदी पर बना झूला पुल गिरने से अब तक करीब 140 से ज्यादा लोगों की मौत होने की आशंका जताई जा रही है और समाचार लिखे जाने तक...

मोरबी में मच्छू नदी पर बना झूला पुल गिरने से अब तक करीब 140 से अधिक लोगों की मौत होने की आशंका जताई जा रही है और समाचार लिखे जाने तक करीब 200 से ज्यादा कर्मी राहत और बचाव कार्य में लगे हुए हैं। जानकारी के अनुसार जब यह हादसा हुआ तब इस पुल पर लगभग 300 से अधिक लोग मौजूद थे। यह पुल गिरने से सैकड़ों लोग नदी में डूब गए।

वहीं इस हादसे में BJP सांसद मोहन कुंदरिया के परिजनों की भी मौत हो गई। सांसद मोहन कुंदरिया की बहन के परिवार के कुल 12 सदस्यों की मौत हो गई है। रिश्तेदार बहन की जेठानी के परिवार के सदस्यों और चार बेटियों, चार दामाद समेत बच्चों की मौत हो गई है।

मौजूद अधिकारियों ने बताई ये बात

राजकोट के मुख्य अग्निशमन अधिकारी इलेश खेर ने बताया कि राजकोट फायर ब्रिगेड ने कुल 6 नाव, 6 एम्बुलेंस, 2 बचाव वैन और 60 जवान तैनात किए। बड़ौदा, अहमदाबाद, गोंडल, जामनगर, कच्छ से टोटल 20 बचाव नौकाएं रेस्कयू का काम कर रही हैं। 12 फायर टेंडर, बचाव वैन, 15 से अधिक एम्बुलेंस यहां हैं।

राजकोट जिला कलेक्टर अरुण महेश बाबू ने बताया कि SDRF की 2 टीमें यहां आई हैं, और एक NDRF की स्थानीय टीम और दूसरी टीम बड़ौदा से आई है। सेना, वायु सेना, अग्निशमन विभाग के साथ ही नगर पालिका की टीमें भी यहां मौजूद हैं और सभी ने साथ मिलकर काम किया है।

हाईपावर कमेटी का किया था गठन- गृह मंत्री हर्ष संघवी

वहीं मोरबी में केबल ब्रिज गिरने के मामले में गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि अब तक इस हादसे में कुल 132 लोगों की मृत्यु हो गयी है। नेवी,NDRF, वायुसेना और सेना मौके पर पहुंच गई, पूरी रात (खोज और बचाव कार्यों के लिए) 200 से ज्यादा लोगों ने काम किया है। और वहीं गृह मंत्री ने कहा- CM ने अहमदाबाद से रवाना होते हुए कल ही एक हाई पावर कमेटी का गठन किया था। विभिन्न स्थानों पर तैनात सभी के सभी अधिकारियों को सुबह दो बजे के करीब मोरबी में रिपोर्ट करने को कहा गया है और जांच चल रही है।

उन्होंने कहा- इस मामले में आपराधिक मामला दर्ज किया गया है। रेंज IGP के नेतृत्व में आज से जांच शुरू कर दी गई है।

हादसे के समय मौजूद थे महिलाएं और बच्चे

हादसे के बारे में बात करते हुए एक चश्मदीद ने बताया कि जिस समय हादसा हुआ उस समय पुल पर कई महिलाएं और बच्चे थे। लगभग 100 लोगों के नदी में डूबने की आशंका है। पुल को नए वर्ष के दिन ही जनता के लिए खोल दिया गया था। लोग अपनी जान बचाने के लिए तारों पर लटके रहे।

मोरबी की इस मामले पर सीएम भूपेंद्र पटेल ने ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा, “मोरबी में सस्पेंशन ब्रिज की त्रासदी से बेहद दुखी हूं.” सिस्टम की तरफ से राहत और बचाव कार्य जारी है। सिस्टम को घायलों के तत्काल उपचार की व्यवस्था करने का निर्देश दिया गया है और मैं इस संबंध में जिला प्रशासन से लगातार संपर्क में हूं।

Accherishtey

ये भी पढ़े: पटेल नगर में युवक की हत्या के बाद उबाल, शादीपुर डिपो रोड कर दिया जाम

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button