देश

हॉर्नबिल महोत्सव 2023 : नागालैंड की संस्कृति विरासत का उत्सव

24वें संस्करण में, इस वर्ष के महोत्सव में जर्मनी और कोलंबिया जैसे देशों के अंतर्राष्ट्रीय संगीतकार हैं शामिल

हॉर्नबिल वार्षिक महोत्सव नागालैंड का एक महत्वपूर्ण त्यौहार है जो 1 दिसंबर को शुरू होता है और 10 दिसंबर को समाप्त होता है। यह त्यौहार न केवल भारत में बल्कि पूरी दुनिया में पर्यटकों को आकर्षित करता है।

 

इस महोत्सव में इस बार अंतर्राष्ट्रीय भागीदारी है, जिसमें जर्मनी और कोलंबिया जैसे देशों के संगीतकार शामिल हैं। नागालैंड के मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो ने इसमें अमेरिकी संगीत बैंड और अन्य देशों की भागीदारी की जानकारी दी थी।

 

हॉर्नबिल महोत्सव का प्राथमिक उद्देश्य नागालैंड की सांस्कृतिक परंपराओं को पुनर्जीवित और सुरक्षित करना है। यहाँ पर दिखाई जाने वाली विविध सांस्कृतिक पहलू राज्य की जनजातियों के जीवन की झलक प्रस्तुत करते हैं।

 

हॉर्नबिल महोत्सव को ‘त्योहारों का त्योहार’ कहा जाता है, जो नागालैंड की जीवंत संस्कृति को प्रदर्शित करने का एक मंच है। यहाँ पर सरकार अंतर-जनजातीय बातचीत और क्षेत्र की सांस्कृतिक विरासत को बढ़ावा देने का उद्देश्य रखती है।

 

इस उत्सव का नाम भारतीय पक्षी, अवतल-कैस्क्यूड हॉर्नबिल से लिया गया है, जो नागा लोगों के लिए सांस्कृतिक महत्व रखता है। यह पक्षी नागा जनजातियों की लोककथाओं में प्रमुखता से शामिल है।

 

इस महोत्सव में संगीत, नृत्य, गीत और विविध सांस्कृतिक गतिविधियां आयोजित की जा रही हैं। विभिन्न नागा जनजातियों के प्रतिभागियों का प्रदर्शन और एकता नृत्य इस समारोह को सांस्कृतिक रूप से समृद्धि देते हैं।

 

हॉर्नबिल महोत्सव का अर्थिक महत्व भी है। इस उत्सव ने राज्य के उद्यमियों और प्रतिभागियों के लिए बड़ी राशि का सामूहिक राजस्व उत्पन्न किया है जो राज्य की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देता है।

Accherishtey

Related Articles

Back to top button