दिल्लीदेश

अगर सोच रहे हैं घर बनाने का तो जान ले निर्माण सामग्री के नए रेट

घर बनवाने वालों के पास सस्ते रेट में निर्माण में इस्तेमाल होने वाली सामग्री को खरीदने के लिए बचा है बेहद कम समय जल्द जान ले ये नए रेट

अगर आप भी घर बनवाने की सोच रहे हैं तो यह बहुत अच्छा मौका है, क्योंकि निर्माण में इस्तेमाल की जाने वाली सामग्री की कीमतों में लगातार कमी आने के बाद इनमें बढ़ोतरी होने की बात सामने आ रही है।

यह अलग बात है कि पिछले कुछ दिनों से सरिया की कीमतों में इजाफा होना फिर से शुरू हो गया है ऐसे में घर बनवाने वालों के पास सस्ते रेट में निर्माण में इस्तेमाल होने वाली सामग्री को खरीदने का बेहद कम समय बचा है, क्योंकि कहा जा रहा है कि निर्माण वस्तुओं के दामों में एक बार फिर बढ़ोतरी होना शुरू हो सकता है।

अगर जानकारों की मानें तो फिलहाल मार्च-अप्रैल की तुलना के मुताबिक भवन निर्माण सामग्री की कीमतें कम हैं, ऐसे में जरूरतमंद लोग घर बनवाने के लिए खरीदारी कर लें वरना आने वाले वक़्त में निर्माण सामग्री की मांग बढ़ने के बाद कीमतों में इजाफा होना तय है क्योकि पिछले कुछ समय से निर्माण सामग्री की मांग बढ़ी है, जिससे इनकी कीमतों में इजाफा होने का खतरा भी है।

सरिये की कीमतों में इज़ाफ़ा शुरू

जानकारों की मानें तो सीमेंट, ईंट और सरिये की कीमतो में बढ़ोतरी होने लगे तो यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है, क्योंकि निर्माण वस्तुओं की मांग बढ़ने लगी है और ऐसे में मार्किट की अवधारणा के अनुसारइनके दाम बढ़ सकते हैं। मार्च में कुछ जगहों पर सरिये का दाम 85 हजार रुपये टन तक पहुंच गया था और अभी यह शहर के हिसाब से 46,300 रुपये से लेकर 57,000 रुपये प्रति टन तक के दाम में मिल रहा है।

जून के महीने में ही सरिये की कीमतों में दिल्ली-एनसीआर समेत कई राज्यों में 3000 रुपये प्रति टन तक कीमत बढ़ चुकी है सरिया का दाम 1000 तक बढ़ा है, इसके बावजूद सरिया की कीमतें 50 हजार रुपये प्रति क्विंटल के नीचे के स्तर पर ही हैं।

सीमेंट के दामो में भी इज़ाफ़ा

सरिये की तरह सीमेंट के दाम भी बढ़ रहे हैं पिछले कुछ दिनों में सीमेंट के दामों में 10-20 रुपये प्रति बोरी दाम बढ़ चुके हैं। इसके बावजूद ये दाम मार्च-अप्रैल की तुलना में अब भी कम हैं। आपको बता दें कि निर्माण सामग्री के दाम मार्च-अप्रैल में चरम पर थे , लेकिन इसके बाद इनमें गिरावट आई वहीं, एक बार फिर इनके दामों में इजाफा शुरू हो गया है।

ईंट की कीमतो में भी गिरावट

यूपी-बिहार समेत कई राज्यों में ईंट के दाम 5 रुपये प्रति किलो घटकर 70 रुपये प्रति किलो हो गए है। सीमेंट की एक बोरी में 20 रुपये की राहत है लेकिन बालू और गिट्टी के दाम बढ़ गए हैं और वहीं, बार (सीमेंट) की कीमत 85 रुपये प्रति किलो थी साथ ही पिछले एक पखवाड़े के दौरान इसमें 10 रुपये प्रति किलो की गिरावट आई थी। बार की कीमत में पंद्रह दिनों के भीतर में 15 रुपये प्रति किलो की कमी आई है।

ऐसा बताया जा रहा है कि कच्चे माल के निर्यात पर प्रतिबंध और घरेलू दरों में कमी ने बार को नरम कर दिया है और ईंट की कीमत में 500 रुपये प्रति ट्राली की बढ़ोतरी की गई है।

Tez Tarrar App

ये भी पढ़े: चांदनी चौक में अब होगी फ्री ई- रिक्शा की सवारी, जानें और क्या है नया

Yash Hasani

यश हासानी तेज़ तर्रार न्यूज़ में बतौर पत्रकार कार्य कर रहे है और इनका मानना है कि एक पत्रकार समाज के लोगो से बात कर उनकी बात को सबके सामने रखता है

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button