देश

पुरी श्रीमंदिर रत्न भंडार की लेजर स्कैनिंग आज से शुरू

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) पुरी के श्रीजगन्नाथ मंदिर के रत्न भंडार की संरचनात्मक स्थिरता का पता लगाने के लिए कर रहा है लेजर स्कैनिंग

जगन्नाथ मंदिर की संरक्षा के लिए लेजर स्कैनिंग की अनुमति मिली थी, जो संरचनात्मक स्थिति को जांचने के लिए किया जाएगा। इसमें पत्थरों की दीवारों पर दरारें और क्षति का पता लगाने की प्रक्रिया होती है। रत्न भंडार की उत्तरी दीवार की स्थिरता की जांच के लिए लेजर स्कैनिंग शुरू की गई है।

 

मंदिर प्रबंध समिति ने एएसआई को लेजर स्कैनिंग करने की अनुमति दी है, ध्यान रखते हुए कि भक्तों को कोई परेशानी न हो। एसआई की रिपोर्ट पर आगे की कार्रवाई के लिए एक उप-समिति बनेगी।

 

मंदिर के प्रबंधन ने संरचना की सुरक्षा के लिए इस निर्णय पर पहुंचने के लिए लेजर स्कैनिंग का इंतजार कर रहा है। इससे पहले भी 2018 और 2022 में एएसआई से संरक्षण की मांग की गई थी।

 

रत्न भंडार के सभी पत्थरों की स्कैनिंग होगी, जिससे उनमें दरारें या कोई बदलाव नजर आ सकेंगे। यह स्कैनिंग उनकी भौतिक संरचना और सुरक्षा की स्थिति को दर्शाएगी।

 

मंदिर प्रबंधन ने इस पूरी प्रक्रिया को ध्यान से समझाया है, ताकि सुरक्षा में कोई लापरवाही न हो। इस समय, रत्न भंडार को 1978 से खोला नहीं गया है।

Accherishtey

Related Articles

Back to top button