देश

राष्ट्रपति और पीएम ने दी पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी जी की जयंती पर श्रद्धांजलि

जन्मदिन पर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पुष्पांजलि अर्पित करने पहुंचे सदैव अटल स्मारक

अटल बिहारी वाजपेयी की 99वीं जयंती के दिन उन्हें देश सुशासन दिवस के रूप में माना गया। उन्होंने राजनीतिक, साहित्यिक और पत्रकारिता में अपनी अद्भुत छाप छोड़ी। राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, और प्रधानमंत्री ने उन्हें सम्मानित किया।

 

अटल जी का समर्पण और सेवाभाव मां भारती के लिए अमृतकाल में भी प्रेरणास्रोत रहेगा। नेताओं ने भी उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। उनका योगदान राष्ट्रीय रूप से महत्वपूर्ण रहा है।

 

अटल बिहारी वाजपेयी एक प्रेरणास्रोत रहे हैं। उनके विचार और उपदेश आज भी हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने देश की एकता, विकास और सुरक्षा के प्रति अपनी संकल्पितता दिखाई।

 

अटल बिहारी वाजपेयी के जीवन में राष्ट्रप्रेम हमेशा महत्वपूर्ण रहा। उनके कथनों में देश के लिए समर्थन था, जैसे कि उन्होंने कहा था, “सरकारें आएंगी, जाएंगी, पार्टियां बनेंगी, बिगड़ेंगी मगर ये देश रहना चाहिए।”

 

उनके विचार व उपदेश आज भी हमें सशक्त बनाने की दिशा में मार्गदर्शन प्रदान करते हैं। उन्होंने सामाजिक परिवर्तन के साथ-साथ आर्थिक विकास को भी महत्व दिया।

 

वाजपेयी जी ने हमेशा जीत और हार को जीवन का हिस्सा माना और इसे समभाव से देखने की प्रेरणा दी। उनके द्वारा कहे गए विचार हमें जीवन के हर पहलू को समझने में मदद करते हैं।

 

वाजपेयी जी के उक्तियों और विचारों में संस्कृति, समाज, और देशप्रेम की गहरी भावना छिपी थी। उन्होंने कहा था, “कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक फैला हुआ यह भारत एक राष्ट्र है, अनेक राष्ट्रीयताओं का समूह नहीं।”

 

उनके विचारों में सामाजिक समरसता, ज्ञान, और मानवता के प्रति समर्पण की भावना थी। वे इसे नाम, रूप या शक्ल से नहीं, बल्कि हृदय, बुद्धि और ज्ञान से मानव बनाने का संदेश देते थे।

Accherishtey

Related Articles

Back to top button