देश

यूक्रेन से आए भारतीयों का छलका दर्द, हकीकत बया कर नम हुई आँखें

यूक्रेन से लौटे भारतीय छात्र जो की पश्चिम यूक्रेन में फसे हुए थे जीने वापिस लाया गया है आपको बता दें कि एयर इंडिया का एक विमान उक्रैन में फॅसे 182 भारतीयों को लेकर मंगलवार सुबह मुंबई पहुंचा

यूक्रेन से लौटे भारतीय छात्र जो की पश्चिम यूक्रेन में फसे हुए थे जीने वापिस लाया गया है आपको बता दें कि एयर इंडिया का एक विमान यूक्रेन में फॅसे 182 भारतीयों को लेकर मंगलवार सुबह मुंबई पहुंचा।

इनमे से एक निशी मल्कानी ने बताया कि वह पश्चिम यूक्रेन की एक यूनिवर्सिटी की स्टूडेंट हैं, जहां स्थिति थोड़ी बेहतर है। उन्होंने यह भी बतया कि हम कही दिनों तक अपने हॉस्टल में छुपे रहे फिर वेस्ट बॉर्डर पर पहुंचे पर यूक्रेन के पूर्वी हिस्से के एजुकेशन स्टिट्यूट्स के हजारों छात्रों को गंभीर स्थिति का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि वहां से सड़क पर निकलना बेहद मुश्किल है।

उन्होंने यह भी कहा उन छात्रों की सुरक्षित वापसी के लिए और कोशिशें की जानी चाहिए। यह भी कहा कि मैंने कभी सोचा नहीं था की कभी हमे ऐसी कोई स्तिथि का भी सामना करना पड़ेगा। मल्कानी ने कहा कि हम पश्चिमी सिमा के करीब थे तभी रोमानिया पहुँच गए उन्होंने ने यह भी कहा कि पिछले कुछ दिनों से उनके कैंपस में आतकवादी थे लेकिन उन्हें कोई नुकसान नहीं पहुँचाया।

मंगलवार को यूक्रेन से लौटी एक छात्र ने भगवान का शुक्रिआ किया उसने कहा कि में बहुत डर गई थी और भगवान की दया से में वापिस लौट पाई। उन्होंने बताया कि सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने में भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने उनकी काफी मदद की।

पाटिल ने बताया कि पहले हमें हॉस्टल में रहने को कहा गया फिर बंकर में हमने पनाह ली पर वहां काफी ठंड थी। तापमान दो डिग्री सेल्सियस के आसपास था। रोमानिया की सीमा तक पहुंचने के लिए हमें लगभग 10 किलोमीटर पैदल चलना पड़ा।

जानकारी के अनुसार रूस के यूक्रेन पर हमला करने के बाद भारत युद्धग्रस्त देश में फंसे अपने नागरिकों को 27 फरवरी से रोमानिया और हंगरी के रास्ते स्वदेश ला रहा है।

Aadhya technology

ये भी पढ़े: वैज्ञानिकों ने किया खुलासा मौत से पहले क्या सोचता है इंसानी दिमाग

Jagjeet Singh

जगजीत सिंह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे हैं। इन्होंने टेक्निकल, विश्व और एजुकेशन से सम्बंधित लेखो को अपने लेखन में प्रकाशित किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button