देशबिज़नेस

टमाटर और आम की फसलों को लगी लू, पूरे सीजन रुलाएंगे दाम

देश में महंगाई का दौर चल रहा है जहां आम आदमी के लिए टमाटर और आम खरीदना बहुत सोचने का विषय बन गया है, जिनकी कीमते आसमान छू रही है

देश में महंगाई का दौर चल रहा है जहां आम आदमी के लिए अभी कुछ भी खरीदना बहुत सोचने का विषय बन गया है, खासकर बात करे टमाटर और आम जिनकी कीमते आसमान छू रही है।

बता दें कि बाजार में चाहे फल हो या सब्ज़िया दोनों कि ही कीमतों में बहुत बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। साथ ही टमाटर और आम कि बात करे तो इनकी कीमत 100 रुपये के पार पहुंच गई है। इसका कारण जो बताया जा रहा है वो है कि समय से पहले गर्मी और लू (heatwave) जारी रहने से टमाटर और आम की फसल बुरी तरह प्रभावित हुई है और इसका मुख्य जो उत्पादन है वो राज्य उत्तर प्रदेश है जहां 80 फीसदी पैदावार (Yield) प्रभावित हुई है। दूसरी तरफ टमाटर कि बात करे तो ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में टमाटर 120 रुपये किलो बिक रहा है।

हालाँकि, इस बार देश में उत्पादन दो दशक में सबसे कम रहने की आशंका है। लू के कारण 80% फसल खराब हो गई है जिसकी वजह से आम कि कीमत उत्तरी और दक्षिणी राज्यों में 100 रूपये किलो या उसे भी ज्यादा ही देखने को मिलेगी। इसी के चलते वेजिटेबल ग्रोअर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (Vegetable Growers Association of India) के प्रेजिडेंट श्रीराम गढवे ने कहा कि टमाटर की कीमतों में हाल फिलहाल कमी आने की उम्मीद नहीं है। लेकिन जुलाई में उम्मीद है कि इसमें कुछ नरमी आ सकती है जब नई फसल आएगी।

price hike

रेकॉर्डतोड़ महंगाई

देश में टमाटर कि बढ़ोतरी से सरकार कि परेशानी बढ़ सकती है क्योकि ऐसी चीज़े लोगों द्वारा रोज़ इस्तेमाल कि जाती है। साथ ही सरकार पूरी कोशिश में जुटी है कि वो इन चीज़ो में आम आदमी को दिक्कत न पहुचाये क्योकि खाने पीने कि चीज़ो कि वजह से महंगाई में ज्यादा बढ़ोतरी देखी जाती है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक गढवे ने कहा कि क्लाइमेट कंडीशन में बदलाव के कारण टमाटर की फसल पर कीड़ों का हमला हुआ साथ ही लू के कारण टमाटर के फूल मुरझा रहे हैं और इससे भी उत्पादन प्रभावित हो रहा है।

Aadhya technology
यह भी पढ़े: दिल्ली में बनने जा रहा है पहला डबल डेकर फ्लाईओवर, 1.4 Km होगी लंबाई

Abhishikt Masih

अभिषिक्त मसीह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। इन्होने अपने लेख से सच्ची घटनाओं को लिखकर लोगों को जागरूक किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button