लाइफस्टाइल

पीरियड्स के दोरान क्यों अलग चलता है औरतो का दिमाग

औरतो के लिए महावारी एक बुनयादी सच है। लेकिन ये बात भी सच है कि एक औरत आज भी महावारी की बात दूसरो से छुपाती फिरती है।

औरतो के लिए महावारी एक बुनयादी सच है। लेकिन ये बात भी सच है कि एक औरत आज भी महावारी की बात दूसरो से छुपाती फिरती है। जिसमें ये बात किसी से नही छिपी कि इंसानी कायनात इसी पर टिकी हुई है।

इसी के साथ पहले के ज़माने में औरतो को होने वाली महावारी एक दौरे के रूप मे देथी जाती थी। क्योकिं उस बीच औरतो का नेचर कुछ चिड़चिड़ा हो जाता था।

एक रिसर्च के अनुसार एक समय के बाद औरत के मन सेक्स करने का करता है। वो अगर पूरा नहीं होता तो शरीर से ख़ून का रिसाव शुरू हो जाता है।

एक स्टडी के मुताबिक एक तरफ जहा औरतो में महावारी होती है वही मर्दो को भी अलग तरह के चक्र से गुजरना पड़ता है। ऐसें में औरतो का दिमाग मर्दो से अलग काम करता है।

Tax Partner

फ़ीमेल हार्मोन दिमाग के दो हिस्सो पर अपना अलग असर डालता है। हर महीने फ़ीमेल हार्मोन रिलीज़ होने की वजह से दिमाग़ का एक हिस्सा बड़ा हो जाता है। इसलिए महिलाएं दिमाग़ के इस हिस्से का इस्तेमाल करते हुए किसी भी परिस्थिति को दूसरों के मुक़ाबले बेहतर तरीक़े से देखती हैं‌।

ये भी पढ़े: पत्नी ने सोते हुए पति के साथ बनाए सेक्स संबंध, पता चलने पर पति ने किया ऐसे रियेक्ट

Aanchal Mittal

आँचल तेज़ तर्रार न्यूज़ में रिपोर्टर व कंटेंट राइटर है। इन्होने दिल्ली के सोशल व प्रमुख घटनाओ पर जाकर रिपोर्टिंग की है व अपनी कवरेज में शामिल किया है। आम आदमी की समस्याओ को इन्होने अपने सवालो द्वारा पूछताछ करके चैनल तक पहुँचाया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button