राजनीति

Dharmendra Pradhan: NEET और NET परीक्षाओं में धांधली के संबंध में टिप्पणी की

सख्त निगरानी प्रक्रियाओं का उपयोग करके किसी भी प्रकार की अनियमितता को रोकने का प्रयास करती है।

धर्मेंद्र प्रधान, भारत के शिक्षा मंत्री, ने NEET और NET परीक्षाओं में धांधली के आरोपों के संबंध में नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) की भूमिका पर महत्वपूर्ण टिप्पणी की है। प्रधान ने NTA की निष्पक्षता और पारदर्शिता पर जोर देते हुए कहा कि एजेंसी परीक्षा प्रक्रिया को साफ-सुथरा और विश्वसनीय बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि NTA आधुनिक तकनीकों और सख्त निगरानी प्रक्रियाओं का उपयोग करके किसी भी प्रकार की अनियमितता को रोकने का प्रयास करती है।

धर्मेंद्र प्रधान ने यह भी कहा कि परीक्षा में धांधली की किसी भी घटना को गंभीरता से लिया जाएगा और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने अभ्यर्थियों को आश्वस्त किया कि सरकार परीक्षा प्रणाली की विश्वसनीयता और पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए हर संभव कदम उठाएगी। प्रधान ने यह भी बताया कि NTA ने परीक्षा केंद्रों पर निगरानी के लिए आधुनिक तकनीक जैसे CCTV कैमरे और बायोमेट्रिक उपस्थिति प्रणाली का उपयोग किया है, जिससे परीक्षा प्रक्रिया में पारदर्शिता बनी रहे।

धांधली के आरोपों पर प्रधान ने कहा कि कुछ लोग अपने निजी स्वार्थों के लिए ऐसी गतिविधियों में लिप्त हो सकते हैं, लेकिन सरकार और NTA ऐसे तत्वों से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। उन्होंने अभ्यर्थियों से अपील की कि वे परीक्षा की तैयारी पर ध्यान केंद्रित करें और किसी भी प्रकार की अफवाहों पर ध्यान न दें। प्रधान ने यह भी कहा कि NTA लगातार अपनी प्रक्रियाओं का सुधार करती रहती है और किसी भी प्रकार की शिकायतों का समय पर समाधान किया जाता है।

अंत में, प्रधान ने यह स्पष्ट किया कि शिक्षा मंत्रालय और NTA छात्रों के हित में काम करते रहेंगे और परीक्षा प्रणाली की पवित्रता को बनाए रखने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाएंगे। उन्होंने यह भी जोर दिया कि पारदर्शिता और निष्पक्षता सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है और इसमें किसी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

Related Articles

Back to top button