राजनीति

Tejashwi Yadav: तेजस्वी यादव से 8832 हत्याओं का हिसाब मांगा

जेडीयू के प्रवक्ताओं ने आरोप लगाया है कि लालू प्रसाद यादव के शासनकाल में कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो गई थी।

जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) ने राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता तेजस्वी यादव से 8832 हत्याओं का हिसाब मांगा है। जेडीयू का कहना है कि जब तेजस्वी यादव के पिता, लालू प्रसाद यादव, बिहार के मुख्यमंत्री थे, उस दौरान राज्य में अपराध का स्तर काफी बढ़ गया था। इस अवधि में हत्या, अपहरण और डकैती जैसी घटनाएं आम हो गई थीं।

जेडीयू के प्रवक्ताओं ने आरोप लगाया है कि लालू प्रसाद यादव के शासनकाल में कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो गई थी। उन्होंने कहा कि उस समय न केवल आम जनता, बल्कि व्यापारियों, डॉक्टरों और शिक्षकों के लिए भी जीवन असुरक्षित हो गया था। इस प्रकार की स्थिति में राज्य का विकास संभव नहीं था, और लोगों को लगातार भय के वातावरण में जीना पड़ता था।

जेडीयू ने तेजस्वी यादव से सवाल किया है कि वह पहले अपने पिता के शासनकाल में हुई 8832 हत्याओं का जवाब दें। उनका कहना है कि तेजस्वी यादव को अपने पिता के शासन के दौरान राज्य में व्याप्त अराजकता और अपराध की स्थिति के लिए जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

तेजस्वी यादव पर आरोप लगाते हुए जेडीयू के प्रवक्ताओं ने यह भी कहा कि वह जब विपक्ष में होते हैं, तो कानून व्यवस्था पर सवाल उठाते हैं, लेकिन जब उनके पिता सत्ता में थे, तब उन्होंने इस मुद्दे पर कोई कदम नहीं उठाया। जेडीयू का कहना है कि तेजस्वी यादव को पहले अपने घर की स्थिति सुधारनी चाहिए, फिर दूसरों पर उंगली उठानी चाहिए।

जेडीयू ने तेजस्वी यादव से स्पष्ट किया है कि उन्हें राज्य की जनता के सामने आकर इन हत्याओं का जवाब देना चाहिए और यह बताना चाहिए कि उस समय कानून व्यवस्था को सुधारने के लिए क्या कदम उठाए गए थे। जनता को अब जवाब चाहिए, और तेजस्वी यादव को अपनी जिम्मेदारी से भागना नहीं चाहिए।

Related Articles

Back to top button