धर्म

17 September हिन्दू पंचांग: जानें षडशीति संक्रान्ती पर ध्यान और सेवा का महत्व

आज का हिन्दू पंचांग: आज के शुभ मुहूर्त और राहुकाल के साथ जानें षडशीति संक्रान्ती और पद्मा एकादशी के बारे में

दिनांक -17 सितम्बर 2021

दिन – शुक्रवार

विक्रम संवत – 2078 (गुजरात – 2077)

शक संवत -1943

अयन – दक्षिणायन

ऋतु – शरद

मास – भाद्रपद

पक्ष – शुक्ल

तिथि – एकादशी सुबह 08:07 तक तत्पश्चात द्वादशी

नक्षत्र – श्रवण 18 सितम्बर रात्रि 03:36 तक तत्पश्चात धनिष्ठा

योग – अतिगण्ड रात्रि 08:21 तक तत्पश्चात सुकर्मा

राहुकाल – सुबह 11 01 से दोपहर 12:33 तक

सूर्योदय – 06:27

सूर्यास्त – 18:38

दिशाशूल – पश्चिम दिशा में

व्रत पर्व विवरण – पद्मा- परिवर्तीनी एकादशी, वामन जयंती, षडशीति संक्रांति (पुण्यकाल : सूर्योदय से दोपहर 12:34 तक)

विशेष – हर एकादशी को श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ करने से घर में सुख शांति बनी रहती है l

  • “राम रामेति रामेति । रमे रामे मनोरमे ।। सहस्त्र नाम त तुल्यं। राम नाम वरानने ।।” आज एकादशी के दिन इस मंत्र के पाठ से विष्णु सहस्रनाम के जप के समान पुण्य प्राप्त होता है l एकादशी के दिन बाल नहीं कटवाने चाहिए।
  • एकादशी को चावल व साबूदाना खाना वर्जित है | एकादशी को शिम्बी (सेम) ना खाएं अन्यथा पुत्र का नाश होता है।
  • जो दोनों पक्षों की एकादशियों को आँवले के रस का प्रयोग कर स्नान करते हैं, उनके पाप नष्ट हो जाते हैं।

षडशीति संक्रान्ती

  • 17 सितम्बर 2021 शुक्रवार को षडशीति संक्रान्ती है ।
  • पुण्यकाल : सूर्योदय से दोपहर 12:34 तक, जप, तप, ध्यान और सेवा का पुण्य 86000 गुना है!
  • इस दिन करोड़ काम छोड़कर अधिक से अधिक समय जप – ध्यान, प्रार्थना में लगायें।

पद्मा एकादशी

➡ 16 सितम्बर 2021 गुरुवार को सुबह 09:37 से 17 सितम्बर, शुक्रवार को सुबह 08:07 तक एकादशी है।

विशेष – 17 सितम्बर, शुक्रवार को एकादशी का व्रत (उपवास) रखें।

पद्मा एकादशी के  व्रत करने व माहात्म्य पढ़ने – सुनने से सर्व पापों का नाश।

Tax Partner

ये भी पढ़े:- जानें कब से शुरू होंगे श्राद्ध, रखे इन ख़ास बातों का ध्यान

 

 

Vasundhra Tyagi

वसुंधरा त्यागी कंटेंट मार्केटिंग और राइटिंग की फील्ड में करीब 2 साल से कार्यरत हैं। वर्तमान में तेज़ तर्रार मीडिया में बतौर राइटर और एडिटर अपना रोल निभा रही हैं। इन्होंने दिल्ली से जुड़े कई मुद्दों और आम आदमी की समस्याओं को अपने लेख में प्रकाशित कर सम्बंधित अधिकारियों और विभागों का ध्यान इन समस्याओं की और केंद्रित करवाया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button