धर्म

एक ऐसा मंदिर जहां 500 सालों से नहीं खुले दरवाज़े जाने इसके पीछे का रहस्य

हमारे सनातन धर्म में पूजा-पाठ या आरती कीर्तन भगवान की प्राप्ति का एक श्रोत माना जाता है. और तो और जो लोग भगवान को मानते है उन्हें सबसे ज्यादा सुकून मंदिर में मिलता है.

हमारे सनातन धर्म में पूजा-पाठ या आरती कीर्तन भगवान की प्राप्ति का एक श्रोत माना जाता है. और तो और जो लोग भगवान को मानते है उन्हें सबसे ज्यादा सुकून मंदिर में मिलता है. मंदिर में जा कर पूजा अर्चना करना. भगवान को याद रखना और भी बहुत तरह की बाते है. जो मंदिर में मिलती  है जैसे भगवन की प्रतिमा मिलता वो  स्नेह पूजा करने की वो विधिया और भी  अनेक तरह की चीज़े है जो हमें भगवान से जोड़ते है. लेकिन हम आज अपने लेख के माध्यम से एक ऐसी माता की अनोखी मंदिर के बारे में बात करने जा रहे है. जिस मंदिर का दरवाजा लगभग 500 सालो से नहीं खुला है.

कहा जाता है की ये मंदिर दो शहरों जोधपुर और बीकानेर राजघराने  के राजाओ के आपस में लड़ाई के कारण ये मंदिर का दरवाजा बंद रह गया है . उसके बाद से वहा के लोग मदिर के दरवाजें पर लगी ताले की पूजा करते है. मान्यता है यहाँ के लोग सच्चे मन से जो  भी माता से मांगते है जरुर पूरा होता है. और दूर दूर से लोग आते है यहाँ के दर्शन करने.

Accherishtey

Related Articles

Back to top button