धर्म

काजू,किसमिस,बादाम, इन खास चीजों से बनती है मां दुर्गा की अद्भुत प्रतिमा

शारदीय नवरात्र का आगाज हो चुका है. नवरात्रि में षष्टी तिथि को पंडालों में मां दुर्गा विराजमान होगी. यही से दुर्गापूजा उत्सव का आगाज होगा. मिनी बंगाल कहे जाने वाले काशी में इस बार मां दुर्गा के अद्भुत प्रतिमाओं के दर्शन भी भक्तों को होंगे.

शारदीय नवरात्र का आगाज हो चुका है. नवरात्रि में षष्टी तिथि को पंडालों में मां दुर्गा विराजमान होगी. यही से दुर्गापूजा उत्सव का आगाज होगा. मिनी बंगाल कहे जाने वाले काशी में इस बार मां दुर्गा के अद्भुत प्रतिमाओं के दर्शन भी भक्तों को होंगे. भोले की काशी में इस बार काजू,किसमिस,बादाम,तिल और गट्टे से मां दुर्गा की अद्भुत प्रतिमा तैयार हो रही है.

केदार घाट के करीब सजने वाले पंडाल में देवी के इस अद्भुत स्वरूप के दर्शन तीन दिनों तक भक्तों को होंगे. बताते चलें कि कुल 1 क्विंटल मेवे से इस प्रतिमा को तैयार किया जा रहा है. इसे तैयार करने वाले कारीगर शीतल चौरसिया ने बताया कि इस प्रतिमा को बनाने में 3 महीने से अधिक का वक्त लगा है.

इसे तैयार करने में करीब 50 किलो किसमिस,20 किलो काजू,10 किलो बादाम और 20 किलो तिल और गट्टे लगे है.गट्टों की माला से ही मां दुर्गा का अद्भुत श्रृंगार हुआ है.इसके अलावा इस प्रतिमा में काजू और बादाम की ज्वैलरी से माता को सजाया गया है. मां दुर्गा की इस अद्भुत प्रतिमा के साथ महिषासुर,भगवान गणेश,माता लक्ष्मी,सरस्वती की भी प्रतिमा बनाई गई है.बताते चलें कि माता दुर्गा के इस प्रतिमा की ऊंचाई करीब 8 फीट है.

Accherishtey 

Related Articles

Back to top button