धर्म

Aaj Ka Hindu Panchang 2 April: नवरात्रि, हिंदू नववर्ष आज से आरंभ, जानें तिथि औैर राहुकाल

Aaj Ka Hindu Panchang 2 April: राहुकाल और शुभमुहूर्त के साथ जानें कैसे लगेगा कार्यस्थल पर मन और उन्नतिकारक कुंजियाँ

दिनांक 02 अप्रैल 2022

दिन – शनिवार

विक्रम संवत – 2079

शक संवत – 1943

अयन – उत्तरायण

ऋतु – वसंत

मास – चैत्र

पक्ष – शुक्ल

तिथि – प्रतिपदा 11:58 तक तपश्चात द्वितीया

नक्षत्र – रेवती सुबह 11:21 तक तपश्चात अश्विनी

योग – इन्द्र सुबह 08:31 तक तत्पश्चात वैधृति

राहुकाल – सुबह 09:37 से 11:10 तक

सूर्योदय – 06:31

सूर्यास्त – 06:55

दिशाशूल – पूर्व दिशा में

विजय मुहूर्त – अपरान्ह 2:47 से 3:37 तक

गोधूलि मुहूर्त – शाम 6:43 से 7:07 तक

सायह्न सन्ध्या – शाम 6:55 से रात्रि 8:05 तक

ब्रह्म मुहूर्त– सुबह 05:22 से 06:11 तक

निशिता मुहूर्त – रात्रि 12.20 से 01:06 तक

अभिजित मुहुर्त- दोपहर 12:19 से 01:08 तक

व्रत पर्व विवरण – चैत्र नूतन वर्ष ,चेटीचंड, भगवान झूलेलाल अवतार ,गुड़ीपडवा , चैत्री नवरात्रि प्रारंभ (चेटीचंड पूरा दिन शुभ मुहूर्त है )

विशेष – प्रतिपदा को कूष्माण्ड(कुम्हड़ा, पेठा) न खाये, क्योंकि यह धन का नाश करने वाला है। द्वितीया को बृहती (छोटा बैगन या कटेहरी) खाना निषिद्ध है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

नवरात्रि पूजन विधि

02 अप्रैल 2022 शनिबार से नवरात्रि प्रारंभ ।
नवरात्रि के प्रत्येक दिन माँ भगवती के एक स्वरुप श्री शैलपुत्री, श्री ब्रह्मचारिणी, श्री चंद्रघंटा, श्री कुष्मांडा, श्री स्कंदमाता, श्री कात्यायनी, श्री कालरात्रि, श्री महागौरी, श्री सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। यह क्रम चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को प्रातःकाल शुरू होता है। प्रतिदिन जल्दी स्नान करके माँ भगवती का ध्यान तथा पूजन करना चाहिए। सर्वप्रथम कलश स्थापना की जाती है।

घट स्थापना शुभ मुहूर्त:

घटस्थापना शनिवार, अप्रैल 2, 2022 को सुबह – 06:31 से 08:31 तक (अवधि – 01 घण्टा 59 मिनट्स) घटस्थापना अभिजित मुहूर्त दोपहर – 12:19 से 01:08 तक (अवधि – 00 घण्टे 50 मिनट्स)

  • पुजा सामग्री
  • जौ बोने के लिए मिट्टी का पात्र
  • जौ बोने के लिए शुद्ध साफ़ की हुई मिटटी
  • पात्र में बोने के लिए जौ

घट स्थापना के लिए मिट्टी का कलश (“हैमो वा राजतस्ताम्रो मृण्मयो वापि ह्यव्रणः” अर्थात ‘कलश’ सोने, चांदी, तांबे या

मिट्टी का छेद रहित और सुदृढ़ उत्तम माना गया है । वह मङ्गलकार्योंमें मङ्गलकारी होता है )

  • कलश में भरने के लिए शुद्ध जल, गंगाजल
  • मौली (Sacred Thread)
  • इत्र
  • साबुत सुपारी
  • दूर्वा
  • कलश में रखने के लिए कुछ सिक्के
  • पंचरत्न
  • अशोक या आम के 5 पत्ते
  • कलश ढकने के लिए ढक्कन
  • ढक्कन में रखने के लिए बिना टूटे चावल
    पानी वाला नारियल
  • नारियल पर लपेटने के लिए लाल कपडा
  • फूल माला
  • विधि

सबसे पहले जौ बोने के लिए मिट्टी का पात्र लें। इस पात्र में मिट्टी की एक परत बिछाएं। अब एक परत जौ की बिछाएं। इसके ऊपर फिर मिट्टी की एक परत बिछाएं। अब फिर एक परत जौ की बिछाएं। जौ के बीच चारों तरफ बिछाएं ताकि जौ कलश के नीचे न दबे। इसके ऊपर फिर मिट्टी की एक परत बिछाएं। अब कलश के कंठ पर मौली बाँध दें। कलश के ऊपर रोली से ॐ और स्वास्तिक लिखें। अब कलश में शुद्ध जल, गंगाजल कंठ तक भर दें। कलश में साबुत सुपारी, दूर्वा, फूल डालें। कलश में थोडा सा इत्र डाल दें। कलश में पंचरत्न डालें। कलश में कुछ सिक्के रख दें। कलश में अशोक या आम के पांच पत्ते रख दें। अब कलश का मुख ढक्कन से बंद कर दें। ढक्कन में चावल भर दें।

नारियल पर लाल कपडा लपेट कर मौली लपेट दें। अब नारियल को कलश पर रखें। नारियल का मुख नीचे की तरफ रखने से शत्रु में वृद्धि होती है।नारियल का मुख ऊपर की तरफ रखने से रोग बढ़ते हैं, जबकि पूर्व की तरफ नारियल का मुख रखने से धन का विनाश होता है। इसलिए नारियल की स्थापना सदैव इस प्रकार करनी चाहिए कि उसका मुख साधक की तरफ रहे। ध्यान रहे कि नारियल का मुख उस सिरे पर होता है, जिस तरफ से वह पेड़ की टहनी से जुड़ा होता है।

अब कलश को उठाकर जौ के पात्र में बीचो बीच रख दें। अब कलश में सभी देवी देवताओं का आवाहन करें। “हे सभी देवी देवता और माँ दुर्गा आप सभी नौ दिनों के लिए इसमें पधारें।” अब दीपक जलाकर कलश का पूजन करें। धूपबत्ती कलश को दिखाएं। कलश को माला अर्पित करें। कलश को फल मिठाई अर्पित करें। कलश को इत्र समर्पित करें।

कलश स्थापना के बाद माँ दुर्गा की चौकी स्थापित की जाती है।

नवरात्रि के प्रथम दिन एक लकड़ी की चौकी की स्थापना करनी चाहिए। इसको गंगाजल से पवित्र करके इसके ऊपर सुन्दर लाल वस्त्र बिछाना चाहिए। इसको कलश के दायीं ओर रखना चाहिए। उसके बाद माँ भगवती की धातु की मूर्ति अथवा नवदुर्गा का फ्रेम किया हुआ फोटो स्थापित करना चाहिए। मूर्ति के अभाव में नवार्णमन्त्र युक्त यन्त्र को स्थापित करें।

Hair Crown

 

यह भी पढ़े: New Year 2022: नए साल से पहले रखें अपने पर्स में ये ख़ास चीज, नहीं होगी पैसों की कमी

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button