धर्म

Aaj Ka Hindu Panchang 25 March: चैत्र माह कृष्ण पक्ष की अष्टमी पर करें भगवान शिव की उपासना

Aaj Ka Hindu Panchang 25 March: राहुकाल और शुभमुहूर्त के साथ जानें कैसे लगेगा कार्यस्थल पर मन और उन्नतिकारक कुंजियाँ

दिनांक – 25 मार्च 2022

दिन – शुक्रवार

विक्रम संवत – 2078

शक संवत – 1943

अयन – उत्तरायण

ऋतु – वसंत

मास – चैत्र

पक्ष – कृष्ण

तिथि – अष्टमी रात्रि 10:04 तक तपश्चात नवमी

नक्षत्र – मूल अपरान्ह 04:07 तक तपश्चात पूर्वाषाढ़ा

योग – वरीयान रात्रि 01:47 तक तत्पश्चात परिघ

राहुकाल – दोपहर 11:14 से रात्रि 12:46 तक

सूर्योदय – 06:39

सूर्यास्त – 06:52

चन्द्रोदय – रात्रि 02:16

दिशाशूल – पश्चिम दिशा में

विजय मुहूर्त – अपरान्ह 2:48 से 3:37 तक

अमृत काल – सुबह 10:05 से 11:36 तक

गोधूलि मुहूर्त – शाम 6:40 से 7:04 तक

सायह्न सन्ध्या – शाम 6:52 से रात्रि 8:03 तक

ब्रह्म मुहूर्त– सुबह 05:05 से 05:52 तक

निशिता मुहूर्त – रात्रि 12.22 से 01:09 तक

व्रत पर्व विवरण – शीतला अष्टमी

 – अष्टमी को नारियल का फल खाने से बुद्धि का नाश होता है।अष्टमी को तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है। बिल्वपत्र न तोड़ें।

(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

दिन का चौघड़िया

चर – सामान्य 06:39 से 08:11
लाभ – उन्नति 08:11 से 09:42
अमृत – सर्वोत्तम 09:42 से 11:14
काल – हानि 11:14 से 12:46
शुभ – उत्तम 12:46 से 02:17
रोग – अमंगल 02:17 से 03:49
उद्वेग – अशुभ 03:49 से 05:21
चर – सामान्य 05:21 से 06:52

रात्रि का चौघड़िया

रोग – अमंगल 06:52 से 08:21
काल – हानि 08:21 से 09:49
लाभ – उन्नति 09:49 से 11:17
उद्वेग – अशुभ 11:17 से 12:45
शुभ – उत्तम 12:45 से 02:13
अमृत – सर्वोत्तम 02:13 से 03:42
चर – सामान्य 03:42 से 05:10
रोग – अमंगल 05:10 से 06:38

काम-धंधे में बरकत के लिए

नौकरी या काम-धंधे में बरकत नहीं आती हो तो गाय की धूलि लेकर उसको ललाट पर लगाकर काम-धंधे पर जाएँ l धीरे-धीरे बरकत होने लगेगी और विघ्न हटने लगेंगे l
पूज्य बापूजी

पेट सम्बन्धी तकलीफों में 

नींबू के रस में सौंफ भिगो दें और जितना नींबू का रस,उतना ही सौंफ भी ले l फिर सौंफ में थोड़ा काला नमक या संत कृपा चूर्ण मिलाकर तवे में सेंक कर रख दो l ये लेने से पेट का भारीपन, बदहाजमी दूर होगी और भूख खुलकर लगेगी l कब्ज़ की तकलीफ भी ठीक हो जायेगी l

पढाई में आशातीत लाभ हेतु

विद्यार्थी अध्ययन-कक्ष में अपने इष्टदेव या गुरुदेव का श्रीविग्रह अथवा स्वस्तिक या ॐकार का चित्र रखें तथा नियमित अध्ययन से पूर्व उसे १०-१५ मिनट अपनी आँखों की सीध में रखकर पलकें गिराये बिना एकटक देखें अर्थात त्राटक करें | इससे पढ़ाई में आशातीत लाभ होता हैं |
ऋषिप्रसाद – मार्च २०१९ से

Hair Crown

 

यह भी पढ़े: New Year 2022: नए साल से पहले रखें अपने पर्स में ये ख़ास चीज, नहीं होगी पैसों की कमी

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button