धर्म

Aaj Ka Panchang 13 January 2023: शुक्रवार को बन रहा है खास योग, जानिए पंचांग, शुभ-अशुभ समय और राहुकाल

Aaj ka Panchang 13 January: राहुकाल व शुभमुहूर्त के साथ जानें कैसे लगेगा कार्यस्थल पर मन और उन्नतिकारक कुंजियाँ

* आज का हिन्दू पंचांग *

* दिनांक – 13 जनवरी 2023 *
* दिन – शुक्रवार *
* विक्रम संवत् – 2079 *
* शक संवत् – 1944 *
* अयन – दक्षिणायन *
* ऋतु – शिशिर *
* मास – माघ (गुजरात एवं महाराष्ट्र में पौष) *
* पक्ष – कृष्ण *
* तिथि – षष्ठी शाम 06:17 तक तत्पश्चात सप्तमी *
* नक्षत्र – उत्तराफाल्गुनी शाम 04:36 तक तत्पश्चात हस्त *
* योग – शोभन दोपहर 12:46 तक तत्पश्चात अतिगण्ड *
* राहु काल – सुबह 11:27 से 12:48 तक *
* सूर्योदय – 07:23 *
* सूर्यास्त – 06:14 *
* चंद्रोदय – रात्रि 11:42 *
* दिशा शूल – पश्चिम दिशा में *
* ब्राह्ममुहूर्त – प्रातः 05:38 से 06:30 तक *
* निशिता मुहूर्त – रात्रि 12:22 से 01:15 तक *
* व्रत पर्व विवरण – लोहड़ी पर्व (पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मु-कश्मीर) *
* विशेष – षष्ठी को नीम की पत्ती, फल या दातुन मुँह में डालने से नीच योनियों की प्राप्ति होती है । (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
* मकर संक्रांति – 15 जनवरी 2023 * 
*पुण्यकाल सूर्योदय से सूर्यास्त तक*
* जिस दिन भगवान सूर्यनारायण उत्तर दिशा की तरफ प्रयाण करते हैं, उस दिन उतरायण (मकर संक्रांति) का पर्व मनाया जाता है । इस दिन से अंधकारमयी रात्रि कम होती जाती है और प्रकाशमय दिवस बढ़ता जाता है ।*
* सम्यक क्रांति… ऐसे तो हर महिने संक्रांति आती है लेकिन मकर संक्रांति साल में एक बार आती है । उसीका इंतजार किया था भीष्म पितामह ने । उन्होंने उत्तरायण काल शुरू होने के बाद ही देह त्यागी थी ।*
* पुण्यपुंज व आरोग्यता अर्जन का दिन *
* मकर संक्राति के दिन सूर्य भगवान को अर्घ्य देने से धन धान्य की वृद्धि होगी और सुख शांति बढ़ेगी*
* जो संक्रांति के दिन स्नान नहीं करता वह ७ जन्मों तक निर्धन और रोगी रहता है और जो संक्रांति का स्नान कर लेता है वह तेजस्वी और पुण्यात्मा हो जाता है । संक्रांति के दिन उबटन लगाये, जिसमे काले तिल का उपयोग हो ।*
* भगवान सूर्य को भी तिलमिश्रित जल से अर्घ्य दें । इस दिन तिल का दान पापनाश करता है, तिल का भोजन आरोग्य देता है, तिल का हवन पुण्य देता है । पानी में भी थोड़े तिल डाल के पियें तो स्वास्थ्यलाभ होता है । तिल का उबटन भी आरोग्यप्रद होता है ।*
* इस दिन सुर्योद्रय से पूर्व स्नान करने से १० हजार गौदान करने का फल होता है । जो भी पुण्यकर्म उत्तरायण के दिन करते हैं वे अक्षय पुण्यदायी होते हैं । तिल और गुड़ के व्यंजन, चावल और चने की दाल की खिचड़ी आदि ऋतु-परिवर्तनजन्य रोगों से रक्षा करती है । तिलमिश्रित जल से स्नान आदि से भी ऋतु-परिवर्तन के प्रभाव से जो भी रोग-शोक होते हैं, उनसे आदमी भिड़ने में सफल होता है ।*
 * सूर्यदेव की विशेष प्रसन्नता हेतु मंत्र *
* ‘पद्म पुराण’ में सूर्यदेवता का मूल मंत्र है : ॐ ह्रां ह्रीं स: सूर्याय नम: । अगर इस सूर्य मंत्र का ‘आत्मप्रीति व आत्मानंद की प्राप्ति हो’ – इस हेतु से भगवान भास्कर का प्रीतिपूर्वक चिंतन करते हुए जप करते हैं तो खूब प्रभु-प्यार बढ़ेगा, आनंद बढ़ेगा ।*
* आरोग्य व पुष्टि वर्धक : सूर्यस्नान *
* सूर्य की धूप में जो खाद्य पदार्थ, जैसे-घी, तेल आदि २ – ४ घंटे रखा रहे तो अधिक सुपाच्य हो जाता है । धूप में रखे हुए पानी से कभी –कभी स्नान कर सकते हैं । इससे सूखा रोग (Rickets) नहीं होता और रोगनाशिनी शक्ति बरकरार रहती है ।*
* सूर्य की किरणों से रोग दूर करने की प्रशंसा ‘अथर्ववेद’ में भी आती है । कांड – १, सूक्त २२ के श्लोकों में सूर्य की किरणों का वर्णन आता है ।*
*मैं १५-२० मिनट सूर्यस्नान करता हूँ । लेटे–लेटे सूर्यस्नान करना और भी हितकारी होता है लेकिन सूर्य की कोमल धूप हो, सूर्योदय से एक-डेढ़ घंटे के अंदर-अंदर सूर्यस्नान कर लें । इससे मांसपेशियाँ तंदुरस्त होती हैं, स्नायुओं का दौर्बल्य दूर होता है । सूर्यस्नान का यह प्रसाद मुझे अनुभव होता है । मुझे स्नायुओं में दौर्बल्य नहीं है । स्नायु की दुर्बलता, शरीर में दुर्बलता, थकान व कमजोरी हो तो प्रतिदिन सूर्यस्नान करना चाहिए ।*
* सूर्यस्नान से त्वचा के रोग भी दूर होते हैं, हड्डियाँ मजबूत होती हैं । रक्त में कैल्शियम, फॉस्फोरस व लोहें की मात्राएँ बढ़ती हैं, ग्रंथियों के स्त्रोतों में संतुलन होता है । सूर्यकिरणों से खून का दौरा तेज, नियमित व नियंत्रित चलता है । लाल रक्त कोशिकाएँ जाग्रत होती हैं, रक्त की वृद्धि होती है । गठिया, लकवा और आर्थराइटिस के रोग में भी लाभ होता है । रोगाणुओं का नाश होता है, मस्तिष्क के रोग, आलस्य, प्रमाद, अवसाद, ईर्ष्या-द्वेष आदि शांत होते हैं । मन स्थिर होने में भी सूर्य की किरणों का योगदान है । नियमित सूर्यस्नान से मन पर नियंत्रण, हार्मोन्स पर नियंत्रण और त्वचा व स्नायुओं में क्षमता, सहनशीलता की वृद्धि होती है ।*
Accherishtey

ये भी पढ़े: महिला कैब ड्राइवर पर बियर की बोतल से हमला, गले में लगे 10 टांके, आरोपी फरार

Gagandeep Singh

गगनदीप सिंह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। जहां ये दिल्ली से जुड़ी सारी क्राइम की खबरें निडर होकर अपने लेख से लोगों तक पहुंचाते है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button